Sunday, July 25, 2021 09:02 AM

गर्मी से तपने लगे पहाड़, नदी-नाले उफान पर

निजी संवाददाता — मनाली गर्मी बढ़ते ही पहाड़ तपने लगे हैं और ग्लेशियर पिघलने की रफ्तार भी तेज हो गई है। ग्लेशियर पिघलने से नदी-नाले भी उफान पर हैं। ब्यास नदी का भी जलस्तर भी बढऩे लगा है। नदी किनारे रह रहे लोगों की एक बार फिर चिंता बढऩे लगी है। मनाली-लेह मार्ग पर भी नाले उफान पर हैं। हालांकि अब अधिकतर नालों में पुल बनने से दिक्कत कम है, लेकिन नालों में पानी बढऩे से मनाली-लेह मार्ग सहित ग्रांफू-समदो मार्ग पर सफर करना जोखिम भरा हो गया है। जूंडा पुल की मरम्मत के बाद तांदी संसारी मार्ग पर ट्रैफिक सुचारू हो गई है, लेकिन तिंदी नाले सहित अधिकतर नालों में पानी बढऩे से दिक्कत भी बड़ी है। हालांकि रविवार को घाटी में हल्की बारिश हुई, जिससे मौसम ठंडा रहा, लेकिन पिछले कुछ दिनों से तापमान में बढ़ोतरी होने से नदी-नालों का जल स्तर बढ़ गया है।

दूसरी ओर मनाली-लेह मार्ग पर भी वाहनों की आवाजाही सुचारू रही। इस मार्ग पर बीआरओ सड़क मरम्मत कार्य में जुटा हुआ है। सर्दियों के चलते बर्फ से सड़क की हालत खस्ता हुई है। ग्रांफू-काजा मार्ग सहित दारचा, शिंकुला, पदुम मार्ग पर भी ट्रैफिक सुचारू है। मनाली एसडीएम रमन घरसंगी ने कहा कि पिछले कुछ दिनों से नदी-नाले उफान पर हैं। उन्होंने लोगों सहित पर्यटकों से आग्रह किया कि नदी-नालों से दूर रहें।