Friday, December 13, 2019 07:10 PM

गांव नहीं छोड़ा, तो रथ लेकर आ धमके

एक के बाद एक हो रही मौतों पर बुजुर्ग को ठहराया था दोषी, देव खेल में दिए थे आदेश

मंडी, सरकाघाट -सरकाघाट के समाहल गांव में क्रूरता की हदें पार करने वाली घटना के पीछे देवता का नहीं, बल्कि लोगों के अंधविश्वास और कुछ लोगों की सोची समझी साजिश का हाथ है। ‘दिव्य हिमाचल’ को सूत्रों से मिली पुख्ता जानकारी के अनुसार राजदेई को लगभग एक महीने पहले देवता के आदेशों पर लोगों ने गांव छोड़ने के आदेश दिए थे। इसलिए उसे बीच में कई बार डराया-धमकाया और मारा-पीटा भी गया, ताकि वह गांव छोड़कर चली जाए। राजदेई ने जब गांव नहीं छोड़ा तो छह नवंबर को लोग देवता के इन्हीं आदेशों का पालन करवाने के लिए देवता का रथ लेकर राजदेई के घर पहुंच गए। इसके बाद तैश में आए लोगों ने अपने आप ही राजदेई को ऐसी सजा दे डाली, जिसने इनसानियत को भी हमेशा-हमेशा के लिए शर्मसार कर दिया। सूत्र बताते हैं कि कुछ वर्ष पहले देवता के पुजारी की मौत हो गई। उसके कुछ समय बाद उसके एक भाई और मां भी मृत्यु हो गई है और एक भाई को लकवा मार गया। यही नहीं गांव में कुछ और जवान लोगों की भी इस अरसे में मौत हुई। इस सबसे घबराए हुए लोग कुछ महीने पहले देवता की शरण में गए और इसकी वजह पूछी। सूत्र बताते हैं कि जिस दिन मंदिर में लोग एकत्रित हुए, उस दिन मंदिर में दो महिलाओं को देवता की खेल आ गई। सूत्र बताते हैं कि इन दोनों महिलाओं ने देवता की तरफ से राजदेई को इस सबकी वजह बताया और उसे गांव से चले जाने के लिए कहा। जांच में इन दोनों महिलाओं की भूमिका पुलिस को भी संदिग्ध लगी है। सूत्र बताते हैं कि इसके बाद कुछ लोगों ने देवता के इन आदेशों को पूरा करवाने की ठान ली, जिसमें पुजारी के परिवार के सदस्यों की भी अहम भूमिका रही। परिवार के सदस्य अपने परिजनों की मौत का कारण राजदेई को ही मानते आ रहे हैं। इसलिए मंदिर के कारिंदों व लोगों ने पहले राजदेई को डराया और मारा-पीटा, लेकिन छह नवंबर को लोग देवरथ लेकर उसके घर पहुंच गए और उसे गांव से बाहर छोड़ कर आने की तैयारी थी।  इसी बीच तैश में आए लोग होश खो बैठे और उसके घर में तोड़ फोड़ करने के बाद आग लगा दी गई, जिसके बाद लोग अपनी सीमा लांघते गए और एक युवक चप्पलों की माला लेकर आया तो दूसरे ने माला पहना दी। तो कुछ ने मुंह पर कालिख लगा डाली और उसे घसीटते हुए गांव से बाहर छोड़ आए। इससे पहले जो लोग इस फैसले के खिलाफ थे, उन्हें भी डराया व धमकाया गया था। सूत्र बताते हैं कि पुलिस इन सब बातों को ध्यान में रखकर जांच करने में लगी हुई है।