गिरते रुपए को बचाने के लिए एनआरआई का सहारा

नई दिल्ली  —डालर के मुकाबले रुपए में गिरावट का सिलसिला लगातार जारी है। इस गिरावट के बाद केंद्र सरकार और केंद्रीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) अब रुपए के गिरते स्तर को लेकर अपनी परेशानी जाहिर करने लगे हैं। जहां बीते कुछ महीनों के दौरान डालर के मुकाबले रुपए को संभालने के लिए आरबीआई द्वारा डालर बेचने और सोना खरीदने की कवायद ज्यादा कारगर नहीं साबित हो रही है, वहीं अब सूत्रों के मुताबिक केंद्रीय रिजर्व बैंक अब अप्रवासी भारतीयों (एनआरआई) की मदद लेने की तैयारी कर रही है। गौरतलब है कि बीते दिनों केंद्रीय बैंकों द्वारा रुपए को संभालने के लिए अंतरराष्ट्रीय मुद्रा बाजार में डालर बेचने की कवायद के चलते देश का विदेशी मुद्रा भंडार तेजी से कम हुआ है। आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक, जहां अप्रैल मध्य तक भारत का 427 बिलियन डालर का विदेशी मुद्रा भंडार था, वहीं अब यह 400 बिलियन डालर के पास आ चुका है। अब केंद्र सरकार और केंद्रीय रिजर्व बैंक रुपए की गिरावट को लगाम लगाने के लिए विदेश में रह रहे भारतीय नागरिकों का सहारा लेने की तैयारी कर रहे हैं। इस कदम से सरकार को उम्मीद है कि वह अपने चालू खाता घाटे को कम कर सकेगी।

Related Stories: