Monday, September 21, 2020 09:46 PM

गुमराह करने की कोशिश 

-रूप सिंह नेगी, सोलन

नागरिकता कानून को लेकर जनता सड़कों पर उतर गई है और लगता है कि अभी भी देश  में किसी न किसी रूप में विरोध जारी रहेगा। जबकि दूसरी ओर सत्तापक्ष के नेता, मंत्री और कार्यकर्ता जनता का समर्थन जुटाने के लिए सड़क से लेकर जनता के द्वार तक दस्तक देने निकल पडे़ हैं, और जनता भी शायद यह जानने को इच्छुक लग रही होगी कि आखिर इस कानून से देश और जनता का क्या फायदा हो सकता है। आम जनता संभवतः यह भी जानना चाहती होगी कि सरकार को भारतीय मू़ल के लोगों पर इतना तवज्जो देने की क्या जरूरत हो सकती है? जनता के मन में यह शंका होना भी स्वाभाविक सा लगता है कि कहीं इस कानून के संशोघन के तार राजनीतिक नफा-नुकसान से तो नहीं जुडे़ हो सकते हैं?