Wednesday, July 17, 2019 12:43 AM

गुलाबा बैरियर पर हंगामा

केलांग—रोहतांग बहाली से पहले ही गुलाबा बैरियर सुर्खियों में आ गया है। यहां इस बार सीजन से पहले ही दर्रे को पैदल पार करने जाने वाले लोगों के जहां वाहन घंटों रोके जा रहे हैं, वहीं इस मामले की शिकायत लाहुल जाने वाले लोगों ने एसडीएम मनाली से की है। सोमवार सुबह जहां गुलाबा बैरियर पर लोगों ने जमकर हंगामा किया, वहीं मामले की गंभीरता को देखते हुए प्रशासन ने जहां बैरियर पर तैनात लोगों को वहां से वाहनों को आगे जाने देने के लिए कहा, वहीं लोगों ने प्रशासन से मांग की है कि जब तक रोहतांग दर्रा पूरी तरह बहाल नहीं होता है, तब तक लाहुल जाने वाले लोगों के वाहनों को बीआरओ जहां तक बर्फ हटाते हुए पहुंचा है वहां तक जाने दिया जाए। उल्लेखनीय है कि हेलिकाप्टर में सीट न मिलने व समय पर उड़ानें न होने के कारण जहां लोग अब रोहतांग दर्रे को पैदल ही लांघ रहे हैं, वहीं अपनी जान भी जोखिम में डाल रहे हैं। लाहुल-स्पीति प्रशासन ने जहां कोकसर व मढ़ी में रेस्क्यू चैक पोस्ट स्थापित कर रखी है, वहीं यहां तैनात जवान लोगों को सुरक्षित रोहतांग दर्रा पार करवा रहे हैं। ऐसे में मनाली से लाहुल की तरफ जाने वाले लोगों के वाहनों को जहां गुलाबा बैरियर पर रोक कर एक नया विवाद खड़ा हो गया है, वहीं लोगों का कहना है कि गुलाबा बैरियर पर तैनात कर्मियों को पर्यटकों के वाहन रोकने के लिए कहा गया है, जबकि लाहुन जाने वाले लोगों के नहीं। सोमवार सुबह मनाली से छह लोग रोहतांग दर्रा पार करने के लिए टैक्सी के माध्यम से राहलाफाल तक गए। लाहुल जा रहे अरविंद, वृजेश कटोच, सोनम , जगदीश व लालचंद ने बताया कि सोमवार सुबह उनके वाहन को गुलाबा बैरियर पर करीब दो घंटे तक रोका गया। उन्होंने बताया कि समय पर हेलिकाप्टर में सीट उपलब्ध न हो पाने के कारण उन्हांेने रोहतांग दर्रे को पैदल लांघने का निर्णय लिया। उधर, एसडीएम मनाली अश्वनी कुमार का कहना है कि सोमवार सुबह टैक्सी चालक ने फोन पर सूचना दी कि लाहुल जाने वाले वाहनों को गुलाबा से आगे जाने नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि बैरियर पर लाहुल जाने वाले लोगों की गाडि़यों को नहीं रोका जाएगा।