Friday, September 20, 2019 12:33 AM

गोबिंदसागर में डाला सवा चार लाख मछली बीज

बिलासपुर -हिमाचल प्रदेश के जलाशयों में इस बार 70 एमएम से अधिक आकार का बीज डाला जाएगा। इस बाबत प्रक्रिया आरंभ हो चुकी है। इसके तहत गोबिंदसागर मंे मत्स्य निदेशक सतपाल मैहता की देखरेख मंे मंगलवार को 4.19 लाख मछली बीज डाला गया( जबकि कुल 10 से 12 लाख सिल्वर कार्प प्रजाति की मछली का बीज डालने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसके अलावा पौंग डैम, चमेरा और कोलडैम में भी पिछले साल की तुलना में इस बार अधिक बीज डालने का निर्णय लिया है। मत्स्य निदेशक सतपाल मेहता ने बताया कि इस बार गोबिंदसागर मंे मछली की बेहतर ग्रोथ पाई गई है, जिसके तहत पिछले साल की तुलना में इस बार ज्यादा मछली बीज डालने का निर्णय लिया गया है। इसके तहत मंगलवार को चार लाख उन्नीस हजार मछली बीज डाला गया। उन्होंने बताया कि गोबिंदसागर जलाशय मंे दस से बारह लाख मछली बीज डालने की योजना है। पश्चिम बंगाल से बीज मगवाया गया है। जल्द ही अगली खेप बिलासपुर पहुंचने की उम्मीद है। उन्होंने बताया कि प्रदेश भर मंे स्थापित फार्मों में उत्पादित बीज भी जलाशयों मंे डाला जाएगा। वहीं, पौंग डैम में आठ से दस लाख मछली बीज डाला जाएगा और इस जलाशय मंे भारतीय मेजर कार्प (रोहू, मृगल व कतला) प्रजाति का बीज डाला जाएगा। सतपाल मेहता के अनुसार चमेरा डैम में सिल्वर कार्प का दो लाख बीज डाला जाएगा।