Tuesday, September 17, 2019 02:13 PM

गो सेंक्चुरी के लिए शिमला का कंसल्टेंट हायर

1000 पशुओं को मिलेगा ठिकाना, केस तैयार कर सरकार को भेज जाएगा

बिलासपुर -जिला में 1000 पशुओं के लिए बनने वाले दो गो अभयारण्यों के लिए पशुपालन विभाग ने कंसल्टेंट हायर कर लिया है।  शिमला की वास्तुकार एसोसिएट फर्म का यह कंसल्टेंट अब गो अभयारण्य का एफआर केस तैयार करेगा। इसके उपरांत कंसल्टेंट इस केस को अप्रूवल के प्रदेश सरकार को भेजेगा। पशुपालन विभाग बिलासपुर के डिप्टी डायरेक्टर डा. अविनाश शर्मा ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि सरकार से अनुमति मिलते ही गो अभयारण्य का निमार्ण कार्य शुरू हो जाएगा। इन दो गौ अभयारण्य के लिए 398 बीघा जमीन चिन्हित की गई है। सदर के धार टटोह और स्वारघाट के बरोटा ढडवाल में इनका निमार्ण होगा। धार टटोह के लिए चिन्हित भूमि में 500 आवारा पशु रखें जाएंगे।  इसके अलावा यहां नस्ल सुधारक फार्म भी तैयार होगा। वहीं, बरोटा ढडवाल गो अभयारण्य के लिए चिन्हित जमीन में भी  500 पशुओं की  क्षमता रहेगी। बैल, बछड़े, सांड के साथ ही गायों को भी इनमें रखने की रूपरेखा बनाई गई है। बताते चलें कि पशुपालन विभाग के पास जिला में सात पंजीकृत गोसदन है। इसके अलावा चार बिना पंजीकृत गोसदन भी है। इन 11 गोसदन में 615 के करीब आवारा पशु रखे गए हैं।