Saturday, January 25, 2020 11:58 PM

ग्रामीणों ने पूछा, प्रोजेक्ट में बोदना क्यों नहीं

चौपाल - लालपानी से चौपाल, बावी ठाना उठाऊ पेयजल योजना में गांव बोदना को शामिल न करने पर ग्रामीणों ने आपत्ति जताई है। बताते चलें कि लालपानी से चौपाल के लिए वाया वावी, ठाना के लिए उठाऊ पेयजल योजना स्वीकृत हुई है। करोड़ों रुपए की लागत से बन रही इस योजना में गांव बोदना को शामिल नहीं किया गया, जिसके चलते लोगों में सरकार व विभाग के प्रति भारी रोष व्याप्त है। हालांकि ग्राम पंचायत चांजू.चौपाल की बैठक हुई, जिसमें सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित कर बोदना गांव में शामिल करने के लिए सरकार से मांग की गई। इसे लेकर ग्रामीणों का एक प्रतिनिधिमंडल प्रधान ग्राम पंचायत चौपाल उषा गाजटा से एसडीएम चौपाल अनिल चौहान से मिला और उन्हें ज्ञापन सौंपा। बोदना गांव के लोगों का कहना है कि इन दो गांव में कुल 60-70 मकान हैं,  लेकिन वे सभी पिछले कई वर्षों से पेयजल की समस्या से जुझ रहे है। पुलिस विभाग से सेवानिवृत्त रनवीर चंदेल ने कहा कि वे जानना चाहते है कि बोदना गांव वालों के साथ ये सौतेला व्यवहार क्यों। उन्होंने कहा कि साथ लगते सभी गांव को इस उठाऊ पेयजल योजना जोड़ दिया गया है, लेकिन बोदना को क्यों नहीं जोड़ा गया। ग्रामीणों ने दिव्य हिमाचल को बताया कि उपरोक्त उठाऊ पेयजल योजना वाया बोदना, बावी के लिए जा रही है, लेकिन आश्चर्यजनक बात तो यह है कि इसमें बोदना गांव को छोड़ दिया गया है। बोदना गांव के लोगों ने प्रदेश सरकार से गुहार लगाई है कि लंबे समय से इस गांव में आ रही पानी की किल्लत से निजात दिलाने के लिए उक्त गांव को इस योजना में जोड़ा जाए।