घटिया खेल सामग्री पर लुटता धन, भूपिंदर सिंह, राष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रशिक्षक

भूपिंदर सिंह

राष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रशिक्षक

इंडोर स्टेडियम में अलग-अलग समय में अलग-अलग खेल के प्ले फील्ड बिछा कर खेल प्रतियोगिता व प्रशिक्षण किया जा रहा है। इन प्ले फील्ड की खरीददारी में भी काफी घपला होता है। हिमाचल प्रदेश के महाविद्यालयों में जहां अधिकतर खेल सामग्री महाविद्यालय प्रशासन स्वयं खरीदता है, वहीं पर कुछ खेल सामान पहले शिक्षा निदेशालय मैटीरियल्स एंड सप्लाई के अंतर्गत खरीद कर महाविद्यालय को दिया जाता था और अब जैम के माध्यम से खरीदा  जा रहा है…

आज के आधुनिक वैज्ञानिक युग में खेलों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने के लिए खेल विज्ञान के विषयों एक्सरसाइज फिजियोलॉजी, बायो-मैकेनिक्स, खेल-औषधि, खेल-मनोविज्ञान व खेल-एंथ्रोपोलॉजी आदि में काफी शोध हो रहा है। खेल प्रशिक्षण, आहार, शरीर को रिलैक्स करने की विभिन्न विधियां व स्तरीय खेल सामान में काफी सुधार हो रहा है। श्रेष्ठतम प्रदर्शन के लिए खेल सामग्री को वैज्ञानिक आधार पर बनाया जा रहा है। खेलों में बड़ी सफलताओं के लिए उच्च स्तरीय प्रशिक्षकों व प्रतिभाशाली खिलाडि़यों के साथ-साथ उनके पास स्तरीय खेल किट व उच्च तकनीकी के खेल उपकरणों का होना भी बहुत ही जरूरी होता है। चिकित्सा क्षेत्र में विभिन्न प्रकार की बीमारियों को ठीक करने के लिए आज प्रौद्योगिकी का सहारा लेकर कई प्रकार के उपकरण विकसित हो चुके हैं। ठीक उसी प्रकार खेल जगत में भी आज के अद्भुत खेल परिणामों में प्रौद्योगिकी का सहारा लेकर बनाई गई आधुनिक खेल सामग्री का विशेष योगदान है। आज खिलाडि़यों के लिए खेल किट में उस की शारीरिक संरचना के अनुरूप पोशाक व जूते उच्च तकनीक से बने होते हैं। खेल शूज बनाने वाली नामी-गिरामी कंपनियों ने दो हजार रुपए से लेकर एक लाख रुपए से भी अधिक कीमत के खेल जूते बनाए हैं। ठीक इसी नकल पर बिना प्रौद्योगिकी का प्रयोग किए आम कंपनियों के जूते भी बाजार में उपलब्ध हैं, मगर वे खिलाड़ी को वह सुरक्षा व सहायता प्रदान नहीं कर पाते जैसे विशेष तकनीक पर बने जूते देते हैं। बात चाहे हॉकी के गोलकीपर पोशाक की है या मुक्केबाज के दस्तानों की, विशेष तकनीक से बनी सामग्री ही खिलाड़ी को शारीरिक सुरक्षा व खेल परिणामों को बेहतर करने में सहायता प्रदान करती है। एथलेटिक्स के उपकरणों में विशेष कर भाले व पोलवाल्ट के पोल में दिनों-दिन सुधार होता आया है। आज विशेष तकनीक से बने एक अच्छे भाले का मूल्य एक लाख रुपए से भी अधिक है। यही हाल पोलवाल्ट के पोल का है, इसकी कीमत भी लाखों में है। अन्य खेलों में भी किट व खेल उपकरणों के बाजार में अच्छे से अच्छा व घटिया से घटिया सामान उपलब्ध है। जब सरकारी स्तर पर खेल सामान खरीदा जाता है तो कीमत बढि़या या मध्यम स्तर के सामान की होगी और सामग्री निम्न दर्जे की होगी। इस तरह कीमत उच्च क्वालिटी की तय कर शेष राशि हड़प ली जाती है। दुकानदार व सामग्री खरीदने वाले अधिकारी मिलकर अधिकांश राशि को चट कर जाते हैं। आज विभिन्न प्रकार की कृत्रिम प्ले फील्ड विभिन्न खेलों के लिए बाजार में उपलब्ध है। बात चाहे चार सौ मीटर ट्रैक पर बिछे सिंथेटिक की हो या लॉन टेनिस के कोर्ट की, आज हर खेल के लिए कृत्रिम प्ले फील्ड उपलब्ध है। मगर यहां भी उपयोग में लाई जाने वाली सामग्री में काफी गोलमाल है।

इंडोर स्टेडियम में अलग-अलग समय में अलग-अलग खेल के प्ले फील्ड बिछा कर खेल प्रतियोगिता व प्रशिक्षण किया जा रहा है। इन प्ले फील्ड की खरीददारी में भी काफी घपला होता है। हिमाचल प्रदेश के महाविद्यालयों में जहां अधिकतर खेल सामग्री महाविद्यालय प्रशासन स्वयं खरीदता है, वहीं पर कुछ खेल सामान पहले शिक्षा निदेशालय मैटीरियल्स एंड सप्लाई के अंतर्गत खरीद कर महाविद्यालय को दिया जाता था और अब जैम के माध्यम से खरीदा  जा रहा है। मैटीरियल्स एंड सप्लाई के अंतर्गत खरीदा गया खेल सामान बिल्कुल घटिया किस्म का मिलता रहा है। निम्न दर्जे के हाई जम्प मैट व मुक्केबाजी रिंग इसके उदाहरण आज भी देखे जा सकते हैं। इस स्कीम के अंतर्गत खरीदे जिम एक साल में ही कबाड़ हो चुके हैं। लाखों रुपए का खेल सामान तो खरीद लिया, मगर किसी को परवाह नहीं है कि यह सामान काम में भी लाया जा सकता है या नहीं? इस खेल सामान खरीदने के लिए बनी कमेटी में निदेशालय के अधिकारी व बाबू होते हैं जिन्होंने अपनी जिंदगी में शायद ही कोई खेल खेला हो। आज जब खेल-खेल में स्वास्थ्य स्कीम के अंतर्गत कई करोड़ रुपयों की कृत्रिम प्ले फील्ड जूडो, कुश्ती व खो-खो आदि खेलों के लिए खरीद कर विद्यालयों व महाविद्यालय को दी जा रही। जहां भी खेल सामान खरीदना हो, वहां पर खरीददारी के लिए जो कमेटी बने, उसमें जिस भी खेल का सामान खरीदना है, उस खेल का प्रशिक्षक व कम से कम दो राष्ट्रीय पदक विजेता खिलाड़ी भी विभागीय अधिकारियों के साथ हों। तभी डीलर व अधिकारियों की बंदरबांट से बच कर स्तरीय खेल सामग्री खरीदी जा सकती है। जिस संस्थान को सामग्री मिले, वहां भी कमेटी देखे कि वह घटिया स्तर का तो नहीं दे दिया। कई बार इस विषय पर सरकार को चेताया गया है, मगर आज तक कोई भी प्रतिक्रिया ऐसी नहीं हुई है जिससे इस धांधली को रोका गया हो। अच्छी प्रशिक्षण सुविधा के अभाव में कई प्रतिभाशाली खिलाड़ी समय से पहले ही खेल को अलविदा कह जाते हैं और जिनके पास धन व साधन हैं, वे अच्छे प्रशिक्षण के लिए हिमाचल प्रदेश से पलायन कर जाते हैं। अगर हिमाचल प्रदेश में घटिया खेल सामान न खरीद कर उच्च क्वालिटी का खेल सामान खरीदा होगा, तो स्तरीय खेल सुविधा होगी। साथ ही जो खिलाड़ी प्रशिक्षण सुविधाओं के अभाव में खेल छोड़ देते हैं, वे अपने घर में रह कर  खेल जारी रख सकते हैं। खेल सुविधाओं के लिए पलायन करने वालों को भी जब अपने ही राज्य में रह कर अपना प्रशिक्षण कार्यक्रम पूरा करने के लिए सुविधा मिलेगी तो वह फिर क्यों अपना प्रदेश छोड़ेंगे? जब अंतरराष्ट्रीय स्तर का खेल सामान खरीदा होगा तो फिर हिमाचल प्रदेश की संतानें अपने घर में प्रशिक्षण प्राप्त कर हिमाचल से खेल कर प्रदेश के लिए राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक जीत कर गौरव दिला सकेंगी और तिरंगे को सबसे ऊपर उठाकर जन गन मन की धुन पूरे विश्व को सुना सकेंगी।

ईमेलः Bhupindersinghhmr@gmail.com

The post घटिया खेल सामग्री पर लुटता धन, भूपिंदर सिंह, राष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रशिक्षक appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.

Related Stories: