Monday, April 06, 2020 05:45 PM

घर से करें मां की पूजा

सोलन - 25 मार्च। दुनियाभर में कोरोना वायरस का कहर बढ़ता जा रहा है। भारत में भी इस वायरस के बढ़ते संक्त्रमण के कई मामले सामने आ रहे हैं। एहतियातन  लाकडाउन और कर्फ्यू लगाया गया है जिसके चलते देशभर के शक्तिपीठों के कपाट भी बंद हैं। इसलिए इस बार घर में रह कर माता रानी की अराधना करें। मां दुर्गा के 9 स्वरुपों की उपासना का पर्व चैत्र नवरात्रि बुधवार  से शुरू हो गया। लेकिनए कोरोना वायरस के चलते सदियों में ऐसा पहली बार हो रहा है कि जब भक्त व भगवान के बीच दूर रहने की पाबंदी लगी हो। बुधवार को जिला सोलन के मां शूलिनी मंदिर, मां दुर्गा मंदिरए  काली मंदिर सहित जिला  के अन्य मंदिर के कपाट श्रद्धालुओं के लिए बंद रहे। जब घंटी बजाई जाती है तो वातावरण में कंपन पैदा होता हैए जो वायुमंडल में काफी दूर तक जाता है। इस कंपन का फायदा यह है कि इसके क्षेत्र में आने वाले सभी कीटाणु व विषाणु आदि नष्ट हो जाते हैंए जिससे आसपास का वातावरण शुद्ध हो जाता है। जब घंटी, थाली व ताली सकारात्मक उर्जा को प्रबल करने के लिए व जागरूक करने के लिए बजाई जाती है। हथेलियों में सभी ग्रह होते है, ताली बजाकर सभी ग्रहों की सकारात्मकता ली जाती है। वहीं देवालयों में घंटी इसलिए बजाई जाती है कि, ताकि प्रत्येक मनुष्य के जीवन में सकारात्मकता फैले। सोलन के पंडित सुभाष शर्मा ने बताया कि इन दिनों तक घर का बना हुआ भोग ही माता रानी को अर्पित करना चाहिए, एवं संभव न हो तो दूध व फलों का भोग लगा भी सकते हैं।