Monday, September 23, 2019 02:48 AM

चंडीगढ़-मनाली हाई-वे 48 घंटे से बंद

एनएच पर लगी वाहनों की कतारें, चंडीगढ़, मंडी-मनाली को वाया ऊना भेजे वाहन

स्वारघाट -राष्ट्रीय उच्च मार्ग 205 चंडीगढ़-मनाली करीब 48 घंटों से बंद है। सोमवार दिनभर सड़क के दोनों ओर वाहनों की लंबी-लंबी कतारे लगी रही। जामली और छड़ोल के बीच अभी भी हाई-वे बंद है। हालांकि कुछ पर्यटक बसे व अन्य वाहन रविवार को ही वापस लौट गए थे और कुछ पर्यटकों व यात्रियों को बिलासपुर प्रशासन द्वारा रेस्क्यू कर मोटरबोट के माध्यम से बिलासपुर पहुंचाया था। स्वारघाट-नालागढ़ हाई-वे पर भी पांच से सात किलोमीटर तक  वाहनों की कतारे लगी हुई हैं। एचआरटीसी और पर्यटक बसों व अन्य वाहनों को चंडीगढ़ व मंडी-मनाली के लिए वाया ऊना भेजा जा रहा है। सोमवार को पंजपीरी-ज्योरीपतन संपर्क मार्ग बहाल होने के बाद यात्रियों को काफी सुविधा हुई है। सोमवार को यात्री व स्थानीय लोग मोटरबोटों के माध्यम से बिलासपुर और स्वारघाट के लिए आते-जाते रहे। हालांकि ज्योरीपत्तन से करीब 500 मीटर ऊपर क्रेट वाल ढहने से आधी से ज्यादा सड़क खराब हो गई है और एचआरटीसी के एक बस और एक निजी बस ज्योरीपत्तन में फंसी हुई है, जबकि दो निजी बसे और एक एचआरटीसी बस स्वारघाट और ज्योरीपत्तन के लिए सवारियां ले जा रही है, जिससे मंडी की तरफ  जाने वाले और स्वारघाट की तरफ आने वाले यात्रियों व लोगों को काफी सुविधा मिल रही है। भारी बारिश से  गोबिंदसागर झील का जल स्तर खतरे के निशान को छू गया है।