Wednesday, July 17, 2019 12:26 AM

चंबा की 283 पंचायतों में तीसरी आंख का पहरा

 चंबा —ग्रामीण क्षेत्रों की तस्वीर एवं तकदीर बदलने के साथ महिलाओं एवं बेरोजगारों को घर द्वार रोजगार मुहैया करवाने वाले पंचायत राज विभाग के कार्यों मंे अब ओर भी पारदर्शिता आएगी। पहाड़ी एवं पिछड़े जिला चंबा के सभी 283 पंचायत घर सीसीटीवी कैमरे से लैस होंगे। पंचायत घरों में लगाए जाने वाले सीसीटीवी कैमरे की खरीद फ रोख्त में होने वाले खर्च को पंचायत निधि के अलावा अन्य तरह के फं ड से वहन किया जाएगा। उपायुक्त चंबा की ओर से सभी पंचायतों को आदेश जारी कर पंचायत घरों में कैमरे लगाने की बात कही है, ताकि पंचायत प्रतिनिधियों सहित कर्मचारियों की ओर से पंचायतों में दिए जा रहे विभिन्न तरह के कार्यों पर नजर रखी जा सके। ट्रायल तौर पर अभी इन कैमरों को सिर्फ पंचायत घरों में ही स्थापित किया जा रहा है, लेकिन आने वाले दिनों में बीडीओ आफिस सहित जिला हैडक्वार्टर से भी इसका लिंक जोड़ा जा सकता है। उपरोक्त प्रक्रिया के पूरी तरह से डिजिटिलाइजेशन होने के बाद पंचायतों मेें होने वाले प्राइमरी से लेकर सेकेंडरी स्तर तक के सभी कार्यों पर हर समय अधिकारियों की नजर रहेगी।

बंद कमरे में हो रहे कार्यों की शिकायतों पर जिला प्रशासन ने लिया निर्णय

पंचायत कार्यों में पारदिर्शता को लेकर विभिन्न स्थानों से आ रही शिकायतों को देखते हुए जिला प्रशासन ने पंचायत घरों में सीसीटीवी कैमरे लगाने का निर्णय लिया है। अब ग्राम सभा में लोगों की ओर से रखी गई समस्याओं के अलावा पंचातयों में होने वाले सभी तरह के विकास कार्योंे का शैल्फ जनसमूह के समक्ष तैयार होगा। बंद कमरें में बैठ मनमर्जी से कार्योंे को अंजाम देने वाले पंचायत प्रतिनिधियों के अलावा सचिवों एंव अन्य स्टाफ पर कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

बंकमार कर्मियों को बदलना होगा नजरिया

पंचायतों के सभी कार्य पेपरलैस हो जाने के बाद जिला के कई क्षेत्रों में सचिव कई दिनांे तक पंचायत घरों में नहीं पहुंच पाते थे। लिहाजा लोगों को परिवार नकल एवं प्रमाण पत्रों को लेने के अलावा अन्य तरह के कार्यों को करवाने के लिए कई दिनों तक इंतजार करना पड़ता था। पंचातय घरों में सीसीटीवी कैमरे लग जाने के बाद पंचायत सचिव सहित अन्य स्टाफ बंक नहीं मार सकेंगे।