Tuesday, June 02, 2020 10:36 AM

चलेट में जेसीबी से तुड़वाया अवैध डंगा

सीएमओ आफिस में शिकायत पहुंचते ही हरकत में आया प्रशासन और विभाग

दौलतपुर चौक - जहां पिछले लगभग दो माह से लॉकडाउन के चलते लोग घरों में दुबके हुए हैं, वहीं चलेट गांव में एक 100 साल पुराने तालाब में डंगा लगाकर एक प्राइवेट पार्टी ने पांच मीटर चौड़ा और 20 मीटर लंबा रास्ता बना डाला। परंतु इस प्राचीन जल स्रोत पर इस तरह से अवैध कब्जा करना उसे महंगा पड़ा क्योंकि स्थानीय वासी एवं सेवानिवृत्त एएसआई श्रीकांत ने बताया कि चलेट गांव के ही कुछ लोगों ने अपने खेतों को रास्ता बनाने हेतु तालाब के बीचोंबीच डंगा लगाकर रास्ता बना डाला, उन्होंने तत्काल इसकी सूचना ग्राम पंचायत प्रधान, स्थानीय पटवारी एवं सीएमओ आफिस शिमला की। साथ ही गांव के बुद्धिजीवी वर्ग के साथ मौके पर पहुंचे और इस काम को बंद करने हेतु प्राइवेट पार्टी से आग्रह किया। उधर सीएमओ आफिस के हरकत में आते ही स्थानीय प्रशासनिक अमला भी हरकत में आया और  गुरुवार को स्थानीय पटवारी विनोद कुमार, हैड कांस्टेबल पुष्पिंद्र सिंह पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे जबकि उनके साथ पूर्व उपप्रधान सुरेंद्र सिंह, अजय ठाकुर एवं पंचायत प्रतिनिधि  मौजूद रहे। पटवारी विनोद कुमार ने राजस्व रिकार्ड में तालाब पाकर न केवल ऊक्त डंगा निर्माण का कार्य बंद करवाया, अपितु जेसीबी मंगवाकर ऊक्त डंगे को गिराकर यथास्थिति बना दी। पूर्व उपप्रधान सुरेंद्र सिंह एवं अजय ठाकुर ने बताया कि गांव के कुछ लोग तालाब में डंगा लगाकर अवैध रूप से निजी रास्ता बनवा रहे थे जिसे प्रशासन के सहयोग से बंद करवाया गया। पटवारी विनोद कुमार ने बताया कि संबंधित प्राइवेट पार्टी भविष्य में ऐसा न करने की चेतावनी दी है क्योंकि राजस्व विभाग के रिकार्ड में ऊक्त तालाब ही दर्ज है और प्राकृतिक जल स्रोत से छेड़खानी कदापि बर्दाश्त नहीं की जाएगी। चौकी प्रभारी तरसेम सिंह ने बताया कि हैड कांस्टेबल पुष्पिंद्र सिंह की अगवाई में पुलिस ने तालाब में डंगा निर्माण का काम बंद करवाया और यथास्थिति बनाने में राजस्व विभाग का सहयोग किया।