Friday, December 06, 2019 09:44 PM

चार सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल बनेंगे

स्वास्थ्य विभाग ने किए 75 करोड़ के एमओयू, धरातल पर लाने को प्रयास तेज

शिमला -राज्य में निजी क्षेत्र में चार सुपर स्पेशियलिटी हास्पिटल खोले जाएंगे। इसके लिए चार कंपनियां आगे आई हैं, जिन्होंने सरकार के साथ एमओयू किए हैं। इन्वेस्टर मीट के दौरान हुए इन एमओयू को अब धरातल पर उतारने के लिए स्वास्थ्य महकमे ने काम शुरू कर दिया है। इनमें करीब 75 करोड़ रुपए का निवेश प्रस्तावित है। यह अस्पताल ऊना, कांगड़ा, सोलन और शिमला में खुलेंगे। राज्य सरकार की स्वास्थ्य में सहभागिता योजना के तहत इन अस्पतालों को खोला जा रहा है। जानकारी के अनुसार इन निजी  अस्पतालों में 30 से 40 बिस्तरों की क्षमता होगी। स्वास्थ्य विभाग को कहा गया है कि वह इन निवेशकों को मंजूरी से जुड़ी सभी औपचारिकताओं को जल्द पूरा करें। ऐसे निवेश को धरातल पर उतारने के लिए सीएम ने तेजी से काम करने के निर्देश दिए हैं। जल्द ही इसकी औपचारिकताओं को फाइनल कर दिया जाएगा। अस्पतालों को खोलने के लिए कंपनी को कर्ज मिलेगा, जिसका लाभ प्रदेश की जनता को दिया जाएगा। राज्य सरकार की इस योजना से प्रदेश में मरीजों को सुपर स्पेशियलिटी सुविधा मिल सकेगी। प्रदेश के मेडिकल कालेजों में मरीजों का दबाव भी कम होगा। आने वाले समय में हिमाचल में स्वास्थ्य सेवाएं काफी ज्यादा बेहतर हो जाएंगी। एक तरफ बिलासपुर में एम्स होगा, तो दूसरी ओर आईजीएमसी व टांडा मेडिकल कालेज, वहीं ऊना में पीजीआई का सेटेलाइट केंद्र भी स्थापित होगा। साथ ही चार जगहों पर मेडिकल कालेज  भी चल रहे हैं। ऐसे में निजी क्षेत्र में भी चार सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल होंगे, तो लोगों को प्रदेश से बाहर जाने की जरूरत नहीं होगी। इस सोच के साथ सरकार ने निवेशकों को इस क्षेत्र में प्रोत्साहित करने के लिए स्वास्थ्य में सहभागिता योजना चलाई है। सरकार का तर्क है कि हिमकेयर और आयुषमान भारत योजना के तहत प्राइवेट हास्पिटल को भी इम्पैनल किया गया है। ऐसे में लोग प्राइवेट अस्पताल में भी मुफ्त इलाज करवा सकेंगे।  सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल कहीं पर भी खोला जा सकता है। विभाग ने पहले इसमें मौजूदा अस्पताल से 10 किलोमीटर की बाध्यता की शर्त रखी थी, जिसे हटा दिया है। सुपर स्पेशियलिटी में कार्डियोलॉजी, न्यूरोसर्जरी, पीडियाट्रिक सर्जरी, प्लास्टिक सर्जरी या अन्य कोई भी सुपर स्पेशियलिटी सर्विसेज खोली जा सकती है।