Wednesday, September 18, 2019 08:19 AM

चिंतपूर्णी मंदिर के पास से खाली होंगी दुकानें

केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय ने प्रसाद योजना के तहत धार्मिक पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने को शुरू की कदमताल

चिंतपूर्णी -केंद्र सरकार की महत्त्वाकांक्षी प्रसाद योजना में शामिल चिंतपूर्णी मंदिर को धार्मिक व पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने के लिए केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय ने कदमताल शुरू कर दी है। मंत्रालय की महानिदेशक मीनाक्षी और प्रदेश पर्यटन विभाग की टीम ने चिंतपूर्णी का दौरा करके आधारभूत ढांचे का जायजा लिया। करीब दो घंटे तक मंदिर परिसर से लेकर अधिग्रहण की जाने वाली दुकानों का अवलोकन किया। टीम एक रिपोर्ट बनाकर केंद्र सरकार को सौंपेगी, जिसमें यह बताया जाएगा कि चिंतपूर्णी में कैसे पर्यटन इन्फ्रास्ट्रक्चर का विकास करना है। चिंतपूर्णी मंदिर को केंद्र सरकार द्वारा प्रसाद योजना के तहत चयनित किया गया है। यह मंदिर प्रदेश का पहला मंदिर है, जिसे इस योजना के तहत चुना गया है। योजना के तहत चिंतपूर्णी मंदिर के लिए 50 करोड़ रुपए का बजट तय किया गया है। प्रदेश के पर्यटन विभाग ने भी 45.06 करोड़ रुपए की डीपीआर बनाकर केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय को भेज दी है। इसी कड़ी में मंत्रालय की टीम ने उत्तर भारत के इस प्रसिद्ध तीर्थ स्थल के विकास और सौदर्यकरण के लिए रूपरेखा तैयार करनी शुरू कर दी है। केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय ने यह माना है कि प्रसाद योजना के तहत यह धार्मिक स्थल बिलकुल उपयुक्त है और यहां पर श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए इस योजना के तहत काम करने की जरूरत है। मंत्रालय चाहता है कि मंदिर के आसपास जिन 34 दुकानों के अधिग्रहण की बात चली है, उन्हें अगर खाली करवा दिया जाता है तो मंत्रालय शीघ्र ही इस योजना के तहत प्रदेश पर्यटन विभाग को फंडिग करने को तैयार है। अगर केंद्र सरकार द्वारा चिंतपूर्णी के विकास के लिए इस योजना के तहत धनराशि प्राप्त होती है तो निस्संदेह इस धार्मिक नगरी की तकदीर व तस्वीर बदल जाएगी। योजना के क्रियान्वित होने के बाद न सिर्फ चिंतपूर्णी में आधारभूत संरचना का विकास होगा, बल्कि रोजगार सृजन के भी नए अवसर पैदा होंगे। टीम के साथ जिला पर्यटन अधिकारी सुनयना, पर्यटन विभाग के प्रोजेक्ट मैनेजर धर्मेद्र शर्मा और विभाग के सलाहकार भी यहां पहुंचे हुए थे। मंदिर न्यास के एसडीओ आरके जसवाल ने बताया कि टीम ने मंदिर परिसर और आसपास के क्षेत्र का दौरा करके यथास्थिति का जायजा लिया।