Tuesday, September 17, 2019 03:47 PM

चित्रकला प्रतियोगिता में पूर्व फर्स्ट

नालागढ़ - छात्र स्कूल नालागढ़ में अंतरराष्ट्रीय युवा दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित कार्यक्रम में जहां विद्यार्थियों ने एचआईवी-एड्स पर जागरूकता का अलख जगाते हुए जागरूकता रैली निकाली, वहीं प्रतियोगिता में भी बढ़-चढ़कर भाग लिया। छात्रों के बीच चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें नौवीं कक्षा के पूर्व ने प्रथम, दसवीं कक्षा के विशाल ने द्वितीय व नौवीं कक्षा के छात्र पंकज ने तृतीय स्थान अर्जित किया। स्वास्थ्य विभाग की ओर से विजेताओं को पुरस्कृत किया गया। स्वास्थ्य विभाग नालागढ़ के तत्त्वावधान में आयोजित इस कार्यक्रम में स्कूल की प्रिंसीपल पूनम ठाकुर ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की, जबकि कार्यक्रम की अध्यक्षता स्वास्थ्य शिक्षक चमन लाल ने की। इस अवसर पर आईसीटीसी कांउसर अजीत वर्मा सहित स्कूल स्टाफ उपस्थित रहा। एनएसएस प्रभारी रविनंदन शुक्ला ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के तत्त्वावधान में 12 से 31 अगस्त तक अंतरराष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जा रहा है, जिसके तहत स्कूल में इस जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें एनएसएस, एनसीसी, स्काउट एंड गाइड्स व ईको क्लब के विद्यार्थियों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया, वहीं विद्यार्थियों ने जागरूकता रैली निकाली और इस दौरान लोगों को पोस्टर भी बांटे गए। स्कूल की प्रिंसीपल पूनम ठाकुर ने कहा कि इस प्रकार के जागरूकता शिविरों के आयोजन से विद्यार्थियों को विषय वस्तु की पूर्ण जानकारी मिलती है, जो उनके भावी जीवन में काम आती है। उन्होंने कहा कि स्कूल में समय-समय पर ऐसे जागरूकता कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता रहता है। स्वास्थ्य शिक्षक चमन लाल ने कहा कि प्रदेश में स्थापित 49 एकीकृत परामर्श एवं जांच केंद्रों आईसीटीसी पर इसकी निःशुल्क जांच की जाती है और सीएचसी नालागढ़ व बद्दी में भी यह सुविधा उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि यदि समय रहते एचआईवी पॉजीटिव होने के बारे में पता चल जाए तो व्यक्ति एआरटी द्वारा अपने जीवन को बढ़ा सकता है। उन्होंने कहा कि जांचा परखा रक्त चढ़ाना चाहिए, नई सूई व सीरिंज का इस्तेमाल करना चाहिए। उन्होंने कहा कि यौन रोगों का यदि उपचार न करवाया जाए तो एचआईवी एडस होने का खतरा 10 से 15 गुणा बढ़ जाता है। इसलिए इसका सही ज्ञान होना अनिवार्य है। उन्होंने विद्यार्थियों से आह्वान किया कि वह स्वयं भी जागरूक बने और अपने परिवेश के लोगों में भी जागरूकता लाएं।