चीनी मिलों का बढ़ेगा मुनाफा

घटेगा किसानों का बकाया, 3300 करोड़ होगी अतिरिक्त आमदनी

मुंबई -चीनी का न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाने के सरकार के फैसले से चालू सत्र में चीनी मिलों का मुनाफा तीन से चार प्रतिशत तक बढ़ने की उम्मीद है, जिससे उन्हें गन्ना किसानों का बकाया कम करने में मदद मिलेगी। बाजार अध्ययन एवं साख निधार्रण करने वाली कंपनी क्रिसिल इंडिया की मंगलवार को जारी एक रिपोर्ट में यह बात कही गई है। इसमें कहा गया है कि चीनी का समर्थन मूल्य 29 रुपए से करीब सात प्रतिशत बढ़ाकर 31 रुपए कर देने से चालू चीनी सत्र में घरेलू बिक्री से चीनी मिलों को लगभग 3300 करोड़ रुपए की अतिरिक्त आमदनी होगी। इसके अलावा ज्यादा निर्यात मूल्य के माध्यम से उनकी कमाई 200 करोड़ रुपए बढ़ेगी। चीनी सत्र पहली अक्तूबर से अगले वर्ष के 30 सितंबर तक होता है। रिपोर्ट के अनुसार, इस समय चीनी मिलों के पास गन्ना किसानों का करीब 20000 करोड़ रुपए बकाया है। मिलों को 3500 करोड़ रुपए की अतिरिक्त आमदनी होने से यह 18 फीसदी घटकर 16500 करोड़ रुपए रह जाएगा। इसमें कहा गया है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ने से छोटी चीनी मिलों का परिचालन मुनाफा बढ़कर दो से पांच प्रतिशत तक रह सकता है। बड़ी मिलों का परिचालन मुनाफा बढ़कर 13 से 15 प्रतिशत के बीच पहुंचने की उम्मीद है। बड़ी मिलों की आमदनी में इथेनॉल के उत्पादन से भी वृद्धि होगी, क्योंकि सरकार ने इथेनॉल उत्पादन बढ़ाने के लिए कई प्रोत्साहनों की घोषणा की है। क्रिसिल का अनुमान है कि इस साल चीनी का उत्पादन पांच प्रतिशत घटकर 18.50 लाख टन रह सकता है।

 

Related Stories: