Tuesday, November 19, 2019 03:27 AM

चूड़धार में आधा फुट ताजा हिमपात

बर्फबारी के बीच दशमी पर अपने भाई शिरगुल महाराज से मिलने पहुंचे विजट महाराज

नौहराधार - सिरमौर जिला की सबसे ऊंची चोटी अराध्य देव धार्मिक स्थल व समुद्र तल से 11885 फुट की ऊंचाई पर स्थित चूड़धार में गुरुवार को सीजन का पहला हिमपात हुआ। चूड़धार में सुबह पांच बजे से ही रूक-रूक कर बर्फबारी हो रही है। बर्फबारी के कारण चूड़धार में जहां कड़ाके की ठंड पड़ गई है, वहीं समूचे सिरमौर के तापमान में भी भारी गिरावट आई है। गिरिपार क्षेत्र में सुबह से ही हल्की बारिश हो रही है। समाचार लिखे जाने तक चूड़धार में आधा फुट तक ताजा हिमपात हो चुका है। बर्फबारी के बीच चूड़धार में श्रद्धालुओं का आना जाना जारी है। चूड़धार में हुई बर्फबारी से गिरिपार क्षेत्र में तापमान में गिरावट आ गई है। चूड़धार का अधिकतम तापमान पांच डिग्री व न्यूनतम तापमान जीरो डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। चूड़धार में बर्फबारी होने से गिरिपार क्षेत्र के तापमान में भी भारी गिरावट आई है। गुरुवार को नौहराधार, हरिपुरधार में दिन का अधिकतम तापमान सात डिग्री व न्यूनतम तापमान चार डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। बर्फबारी के बीच गुरुवार को दशमी पर सराहां के मुख्य मंदिर से विजट महाराज अपने बड़े भाई शिरगुल महाराज से मिलने चूड़धार पहुंचे। दोनों भाइयों का दशमी के दिन वर्ष में एक बार मिलन होता है। बड़े भाई से मिलने के लिए विजट महाराज को खास वेशभूषा में सजाकर चूड़धार लाया गया। एकादशी यानि शुक्रवार के दिन चूड़धार में पवित्र स्नान करने के बाद विजट महाराज दोपहर बाद अपने स्थान सराहां के लिए रवाना होंगे। दशमी पर सिरमौर व जिला शिमला के 14 परागनों के देवी-देवता भी मिलन के लिए चूड़धार पहुंचे। देवी-देवताओं के साथ सैकड़ों की संख्या में क्षेत्र के लोग भी चूड़धार पहुंचे। शुक्रवार को चूड़धार में वित्र स्नान करने के बाद विजट महाराज व सभी देवी-देवता अपने-अपने परगने के लिए रवाना होंगे। जिस तरह हर वर्ष जामूकोटी से अपनी माता रेणुकाजी को मिलन के लिए परशुराम भगवान रेणुका आते हैं। उसी तरह सराहां मंदिर से विजट भी अपने भाई शिरगुल महाराज से मिलने के लिए चूड़धार पहुंचते हैं। इन दोनों देवताओं को मिलने के लिए हामल व चेता समेत 14 परागनों के देवी-देवता भी दशमी के दिन चूड़धार पहुंचते हैं। चूड़ेश्वर सेवा समिति की ओर से चूड़धार में आयोजित किए जाने वाले भंडारा शुक्रवार से अगले छह महीने तक बंद रहेगा।