Monday, September 16, 2019 08:05 PM

चेक बाउंस होने पर तीन माह की जेल

सुंदरनगर न्यायालय ने सुनाया फैसला, दोषी को 75 हजार हर्जाना भी ठोंका

सुंदरनगर -सुंदरनगर न्यायालय ने सोमवार को एक चेक बाउंस के अहम मामले में कारावास के साथ-साथ हर्जाना देने का फैसला सुनाया। वहीं मामले में न्यायालय ने दोषी को सीधा सब-जेल मंडी भेज दिया है। अतिरिक्त मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी कोर्ट नंबर-एक सुंदरनगर हकीकत धांंडा की अदालत ने चेक बाउंस का मामला सिद्ध होने पर आरोपी को तीन माह का साधारण कारावास व शिकायतकर्ता को 75 हजार रुपए हर्जाना देने का फैसला सुनाया। शिकायतकर्ता कमला राम पुुत्र जियणू राम, निवासी व डाकघर अप्पर बहली, तहसील सुंदरनगर, जिला मंडी ने अधिवक्ता हर्ष राणा के माध्यम से दोषी विलेंदर पुत्र श्रीपाल, निवासी क्वार्टर नंबर एस.2/16, वार्ड नंबर 13 बीबीएमबी कालोनी, तहसील सुंदरनगर जिला मंडी के खिलाफ चेक बाउंस होने पर अदालत में एनआई एक्ट, 1881 की धारा 138 में मुकद्दमा दर्ज करवाया था।  शिकायतकर्ता के अधिवक्ता हर्ष राणा ने बताया कि दोषी ने शिकायतकर्ता से उधार पर पैसे लिए थे। उन्होंने कहा कि दोषी ने शिकायतकर्ता को पैसे वापस करने के लिए 50 हजार रुपए का चेक दिया था। उन्होंने बताया कि दोषी ने चेक देते समय शिकायतकर्ता को भरोसा दिलाया था कि चैक बैंक में पेश करने पर कैश हो जाएगा। अधिवक्ता हर्ष राणा ने बताया कि दोषी विलेंदर के खाते में पैसे न होने की वजह से चेक बाउंस हो गया था। वहीं दोषी ने केस के दौरान शिकायतकर्ता को किसी प्रकार का कोई भुगतान नहीं किया। अदालत ने फैसला सुनाते हुए आरोपी को तीन माह का साधारण कारावास व 75 हजार रुपए हर्जाना देने के साथ-साथ हर्जाना न देने की सूरत में अतिरिक्त 15 दिन की सजा सुनाई है। अधिवक्ता हर्ष राणा ने कहा कि न्यायालय ने फैसला सुनाते हुए दोषी को मामले में सीआरपीसी की धारा 389 में सुनाई गई सजा सस्पेंड करने की दलील न मानते हुए सीधा सब-जेल मंडी भेज दिया। उन्होंने कहा कि दोषी विलेंदर पिछली पेशी पर फैसला सुनाते समय न्यायालय से गैर हाजिर रहा था और कोर्ट ने उसके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किए थे।