Wednesday, September 23, 2020 02:20 PM

छात्रों ने जानी ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली

 ने मंगलवार से ऑनलाइन इंडक्शन और अभिविन्यास कार्यक्रम के साथ अपना नया शैक्षणिक सत्र शुरू किया। ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली के बारे में विद्यार्थियों को एक विस्तृत विवरण दिया गया। कुलपति प्रोफेसर पीके खोसला ने नए ऑनलाइन सत्र की शुरुआत की और कहा कि विश्वविद्यालय सभी विद्यार्थियों को ऑनलाइन शिक्षा देने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि इसमें व्यावहारिक शिक्षा और स्प्रिंट शामिल होगा, जिसे वस्तुतः संचालित किया जाना है। ऑनलाइन शिक्षा का जोर छात्रों के साथ बातचीत एवं सहभागिता करने और कोविड-19 के इस कठिन समय में भी उन्हें रचनात्मक बनाने पर होगा। उन्होंने कहा कि हम  विद्यार्थियों को अच्छी शिक्षा प्रदान  करेंगे और उन्हें ऑनलाइन प्रौद्योगिकी के माध्यम से नौकरी दिलाने में  भी मदद करेंगे।

उन्होंने कहा, पिछले सेमेस्टर में हमारा प्लेसमेंट लगभग 100 प्रतिशत था और साथ ही हम देश में उच्चतम शोध डेटा प्रदान कर रहे हैं, अब ऑनलाइन सीखाने  के माध्यम से, हम यह सुनिश्चित करेंगे कि हमारे विद्यार्थियों को सबसे अच्छा वर्ष मिले। प्रो-वीसी प्रो. अतुल खोसला ने नई शिक्षा नीति पेश की और नए शिक्षण अनुभव के बारे में शूलिनी विश्वविद्यालय के उद्देश्यों को विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि हम प्रौद्योगिकी से सर्वश्रेष्ठ लाभ लेने  और विश्व स्तर पर उच्च शिक्षा का अनुभव सुनिश्चित करेंगे जो कि अधिक लचीला होगा, क्योंकि छात्र प्रमुख विषयों के साथ माईनर कोर्स करने में भी सक्षम होंगे। जैसे ही सब कुछ सामान्य हो जाएगा, फैकल्टी  को व्यावहारिक प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा और छात्र सिंक्रनाइज और असिंक्रोन कि गई विधि से भी सीखेंगे और उन्हें  सबसे अच्छी  शिक्षण सामग्री प्रदान कि जाएगी। डीन स्टूडेंट वेलफेयर पूनम नंदा ने छात्रों का स्वागत किया और उन्हें आगामी ऑनलाइन सेमेस्टर की जानकारी दी।

उसने कहा कि हम समय पर पिछले सेमेस्टर का सफलतापूर्वक संचालन करने में सक्षम थे, इसलिए अब हम आगामी सेमेस्टर के लिए भीतैयार हैं। इस बीच प्रो चांसलर सतीश आनंद द्वारा डा वाईएस परमार ई-स्टूडियो का उद्घाटन किया गया और  हिमाचल प्रदेश के वास्तुकार और प्रथम मुख्यमंत्री की 114वीं जयंती को चिन्हित  किया गया। ई-स्टूडियो ऑनलाइन शिक्षण की आवश्यकता को पूरा करने के लिए परिसर में 50 ई-स्टूडियो बनाएं जा रहे है। प्रत्येक ई-स्टूडियो में ऑनलाइन व्याख्यान देने के लिए इंटरनेट और ईथरनेट कनेक्टिविटी होगी। जब सामान्य स्थिति बहाल हो जाएगी तब इनका उपयोग छोटे समूहों के बीच बातचीत के लिए भी किया जाएगा । प्रो. खोसला ने कहा कि भविष्य में  कैंपस खुल जाने के बाद भी मिश्रित सीखने की संभावना को देखते हुए इंटरनेट कनेक्टिविटी को और मजबूत करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। आनंद ने दिवंगत मुख्यमंत्री की स्मृति को सम्मानित करने के लिए एक वन महोत्सव का भी उद्घाटन किया। वनमहोत्सव के  दौरान 1,000 से अधिक पौधे लगाए जाएंगे।

The post छात्रों ने जानी ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.