Tuesday, March 31, 2020 01:45 PM

छितकुल में एक फुट बर्फ की चादर

रिकांगपिओ  - बीते बुधवार देर शाम से किन्नौर जिला के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी का दौर शुरू होने से समूचे किन्नौर में ठंड का प्रकोप काफी ज्यादा बढ़ गया है। किन्नौर के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में तापमान जमाव बिंदु से काफी ज्यादा नीचे दर्ज किया जा रहा है। मौसम में आई इस बदलाव के कारण गुरुवार दिन तक किन्नौर के छितकुल में एक फुट के करीब बर्फ  दर्ज की गई। इसी तरह रकच्छम में छह इंच, कल्पा छह इंच, रिकांगपिओ दो इंच, रोपा तीन इंच, मुरंग तीन इंच, जंगी तीन इंच के करीब बर्फ  दर्ज की गई, जबकि पवारी, करछम, चोलिंग, टापरी, भावानगर, चोरा आदि क्षेत्रों में बारिश होती रही। गुरुवार को किन्नौर जिला के रल्ली नामक स्थान पर ग्लेशियर गिरने से राष्ट्रीय उच्च मार्ग पांच करीब पांच घंटे तक अवरुद्ध रहा। जिस कारण अवरुद मार्ग के दोनों और वाहनों की लंबी लाइन देखी गई। राष्ट्रीय उच्च मार्ग प्राधिकरण द्वारा मशीनों के माध्यम से सड़क मार्ग से ग्लेशियर को हटा दिया गया। जिसके बाद वाहनों की आवाजाही शुरू हो पाई। इसी तरह चोलिंग के निकट उरनी ढांक के पास भी पहाडि़यों से पत्थरों के गिरने से सतलुज नदी पर बने पुल के एक हिस्से को काफी ज्यादा नुकसान पहुंचा। जिस कारण छोटे बड़े सभी वाहनों को वाया उरनी चोलिंग सड़क मार्ग से भेजा जा रहा है। उधर, मेहता कनिष्ठ अभियंता एनएच प्राधिकरण ने बताया कि गुरुवार दोपहर पहाड़ी से चट्टाने खिसकने से पुल के प्लेटों को क्षति हुआ है। गुरुवार देर शाम तक या शुक्रवार सुबह तक मार्ग को बहाल कर दिया जाएगा। इस समय वाहनों को वाया उरनी चोलिंग संपर्क सड़क मार्ग से भेजा जा रहा है।