Monday, August 26, 2019 10:04 AM

जंगलों में छलक रहे जाम

भोरंज -उपमंडल भोरंज की लगभग सभी पंचायतों में स्वच्छता अभियान जोरों पर है। लगता है कि प्रत्येक व्यक्ति स्वच्छता का अर्थ समझने लगा है , पर  नशे में संलिप्त खासकर शराबी स्वच्छता के महत्त्व को नहीं समझ पाए हैं। पढे़- लिखे लोग ही अपनी पार्टियां करने को जंगलों का रुख कर रहे हैं और जंगलों पर अस्वच्छता का दाग लगा रहे हैं। दिन को या शाम ढलते ही ये लोग शराब की बोतलें, पानी की कैनियां, बोतल, मटन, चिकन व नमकीन इत्यादि को लेकर गाडि़यों में पांच से पांच लोगों के झुंड में साफ  जगह देखकर बैठ जाते हैं। कई बार तो ये लोग सड़क के किनारे ही अपनी गाडि़यों की आड़ में ही बैठ जाते हैं और कानून व्यवस्था को ताक पर रखते हैं। फिर खा पीकर खूब धमाचौकड़ी करते हैं। यहां तक कि गाडि़यों में ऊंची आवाज में म्यूजिक लगाकर खूब हो हल्ला करते हैं। कई बार तो देर रात तक यह दौर चलता है। उसके पश्चात शराब व बीयर की खाली बोतलों, पोलिथीन व नमकीन के रैपर, अखबारें व  फ्रूट्स के छिलके वहीं पर बिखरे देखे जाते हैं। इन लोगों को ऐसा न करने से रोकने से लोग कतराते हैं, क्योंकि ये लोग नशे में होते हैं तो इनसे मुंह न लगाकर इनसे परहेज करना ही अच्छा समझते हैं। कहीं ये लोग झगड़ा करने पर ही उतारू न हो जाएं। इसके अलावा कई बार तो ये शराबी बोतलों को भी तोड़ देते हैं, जिससे घास काटने वालों के हाथ भी इन शीशियों से कट जाते हैं। लोगों में धर्म चंद, टेक चंद कौशल, विशाल, मनोज, बलवीर, अरविंद, यशवंत, रमित शर्मा, राजू, पवन, राजेश, राकेश, जोगिंद्र, सुरेंद्र कुमार, अनिल, राजकुमार, विजय, विनोद शर्मा इत्यादि ने इन लोगों पर शिकंजा कसने की मांग की है।