Sunday, September 22, 2019 07:07 AM

जनसुनवाई… किसी को मंजूर नहीं टीसीपी

एक्ट के दायरे में आई जनता ने सब-कमेटी के सामने निकाली भड़ास; बोले, हमें बाहर करें

मंडी, नेरचौक, सरकाघाट, सुंदरनगर -टीसीपी यानी टाउन एंड कंट्री प्लानिंग सब-कमेटी की जनसुनवाई में लोगों ने जमकर अपनी भड़ास निकाली। लोगों ने अपनी बात रखते हुए कहा कि योजना क्षेत्र में होने के कारण बिजली, पानी के कनेक्शन के लिए टीसीपी दफ्तर के चक्कर काटने पड़ते हैं। मकान के नक्शे पास करवाने में दिक्कत आती है। टीसीपी प्रावधानों के कारण गांवों में मकान, पशुशालाएं बनाते हुए भवन के आगे व पीछे जमीन छोड़नी पड़ती है, जिससे पहले ही कम भवन लायक भूमि के कारण गरीब ग्रामीणों को बड़ी कठिनाई होती है। टीसीपी सब-कमेटी के अध्यक्ष आईपीएच मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर द्वारा रखी जनसुनवाई में संबंधित क्षेत्र के लोगों ने बेबाकी से अपनी बात रखी। योजना क्षेत्र और विशेष क्षेत्र में शामिल ग्रामीण क्षेत्रों के कई जनप्रतिनिधयों और लोगों ने उनके क्षेत्र को टीसीपी के दायरे से बाहर करने की गुहार लगाई। अनेक लोगों ने ग्रामीण क्षेत्रों में टीसीपी के नियम-कानून में छूट देने का आग्रह किया। वहीं कुछ लोगों ने टीसीपी में मिलने वाली सीवरेज, साफ -सफाई इत्यादि जैसी सुविधाओं को मुहैया करवाने का अनुरोध किया। महेंद्र सिंह ठाकुर ने मंडी सदर विधानसभा क्षेत्र के लिए मंडी सर्किट हाउस, बल्ह विधानसभा क्षेत्र के तहत नेरचौक मेडिकल कालेज के सभागार, नाचन विधानसभा क्षेत्र के कनैड, सुंदरनगर विधानसभा के तहत लोक निर्माण विभाग के विश्राम गृह और सरकाघाट के दबरोट में खुला दरबार लगा कर जन मन की बात जानी। इस दौरान मंडी योजना क्षेत्र में शामिल ग्रामीण क्षेत्रों के कई जनप्रतिनिधयों और लोगों ने उनके क्षेत्र को टीसीपी के दायरे से बाहर करने की गुहार लगाई। नगर परिषद मंडी के कुछ निवासियों ने मंडी को नगर निगम बनाने की मांग भी रखी। नगर परिषद नेरचौक में शामिल कई पंचायतों ने भी उन्हें परिषद क्षेत्र से बाहर करने की मांग रखी। कुछ ने नेरचौक के नगर परिषद दर्जे को समाप्त करने की मांग रखी। नाचन के विधायक विनोद कुमार और संबंधित पंचायतों के जनप्रतिनिधियों ने ग्राम पंचायत कनैड, भौर, जुगाहन, चौक और महादेव के क्षेत्र को टीसीपी के दायरे से बाहर करने की मांग रखी। सुंदरनगर विधानसभा क्षेत्र की ग्राम पंचायत कपाही, कलौहड, चमुखा और अरठी के जनप्रतिनिधियों ने भी योजना क्षेत्र से बाहर करने की मांग की। मंडी योजना क्षेत्र के तहत शामिल ग्राम पंचायत सन्यारड़ के मुहाल सन्यारड़ व चडयारा, मझवाड़ पंचायत के मुहाल नेला, शिला किपड़, ग्राम पंचायत तल्याहड़ के मुहाल मडवाहन, तल्याहड़ व पंजैहठी, ग्राम पंचायत बिजणी के मुहाल बिजणी व छिपणु, टिल्ली पंचायत के मनयाना, ग्राम पंचायत भरौन और बाड़ी पंचायत के मुहाल बाड़ी के जन प्रतिनिधियों और आम नागरिकों ने योजना क्षेत्र के दायरे से बाहर करने की मांग रखी। जन सुनवाई के दौरान उपायुक्त ऋग्वेद ठाकुर ने कार्रवाई का संचालन किया। टीसीपी के दायरे में शामिल प्रत्येक पंचायत के लोगों को क्रमवार अपनी बात मंत्री के समक्ष रखने के लिए बुलाया। वहीं सरकाघाट में जनसुनवाई के दौरान नगर पंचायत सरकाघाट के वार्ड नंबर- सात डबरोग के लोगों ने उनके क्षेत्र को नगर पंचायत से बाहर निकालकर पुनः बरच्छवाड़ पंचायत में शामिल करने की मांग रखी। इस मौके नाचन के विधायक विनोद कुमार, बल्ह के विधायक इंद्र सिंह गांधी, सुंदरनगर के विधायक राकेश जम्वाल ने समिति को संबंधित क्षेत्र के लोगों की भावनाओं व मांगों से अवगत करवाया।

समस्या के समाधान को होंगे हरसंभव प्रयास

सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य मंत्री एवं टीसीपी सब-कमेटी के अध्यक्ष महेंद्र सिंह ठाकुर ने कहा कि प्रदेश सरकार के लिए जनहित सर्वोपरि है। टीसीपी सब-कमेटी जन भावनाओं को ध्यान में रखकर अपनी सिफारिशें देगी। इसमें लोगों को हर संभव मदद देने और टीसीपी से जुड़ी उनकी समस्याओं का समाधान करने के लिए निर्णायक प्रयास किए जा रहे हैं। मंगलवार को आईपीएच मंत्री मंडी जिला के अंतर्गत विभिन्न जगहों पर योजना क्षेत्र और विशेष क्षेत्र में सम्मिलित ग्राम पंचायतों के प्रतिनिधियों और आम नागरिकों के लिए आयोजित जनसुनवाई में लोगों से मुखातिब थे। उन्होंने कहा कि कमेटी लोगों की शिकायतों, सुझावों पर गंभीरता से गौर कर अपनी सिफारिशें सरकार को देगी।

हर जिला में जनसुनवाई से सुनेंगे शिकायतें

महेंद्र सिंह ठाकुर ने कहा कि कमेटी के अध्यक्ष के होने के नाते वह मंडी, हमीरपुर, बिलासपुर और ऊना जिला का दौरा कर इन जिलों के योजना क्षेत्र और विशेष क्षेत्र में सम्मिलित ग्राम पंचायतों के प्रतिनिधियों और आम नागरिकों की टीसीपी से जुड़ी समस्याओं, शिकायतों को लेकर सुनवाई करेंगे। नगर परिषद और नगर पंचायत क्षेत्रों में शामिल ग्रामीण इलाकों के लोगों की बात सुनेंगे। कमेटी के अन्य सदस्य शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज शिमला, सोलन और सिरमौर क्षेत्र और वन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर कांगड़ा, कुल्लू और चंबा में जन सुनवाई करेंगे।