Thursday, November 14, 2019 02:15 PM

जयराम की मेहनत को मोदी ने दिया लाइक

धर्मशाला इन्वेस्टर मीट में नमो बोले; सुनने में अटपटा लग रहा था, लेकिन जयराम ठाकुर ने गजब का मेगा इवेंट करवाया, बड़े आयोजन पर थपथपाई पीठ

धर्मशाला  - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पिछले साल दिसंबर माह में इसी पुलिस मैदान धर्मशाला में आए थे। उस दौरान भी प्रधानमंत्री मोदी ने हिमाचल की जयराम सरकार की खूब पीठ थपथपाई थी। एक साल पूरा होने से पहले एक बार फिर धर्मशाला पहुंचे प्रधानमंत्री ने कहा कि हिमाचल में इन्वेस्टर मीट करवाने की बात सुनना ही अटपटा लगता था, लेकिन जयराम सरकार ने ऐसा करके पूरे देश ही नहीं दुनिया को संदेश दिया है, कि निवेश को पहाड़ी राज्य में आएं हिमाचल तैयार है। प्रबंधों और देशी-विदेशी मेहमानों की तादाद को देख कर प्रसन्ना जताते हुए प्रधानमंत्री ने हिमाचल की जयराम सरकार को खुले मन से बधाई दी। करीब 33 मिनट के अपने भाषण में प्रधानमंत्री ने हिमाचल और हिमाचलीयत पर फोकस कर दुनिया भर से यहां पहुंचे मेहमानों को देवभूमि का मोल बताया।

प्रधानमंत्री ने पुरानी यादें कीं ताजा

छोटे से राज्य में 92 हजार करोड़ से अधिक के एमओयू और दुनिया के दर्जनों बड़े घरानों को हिमाचल के मंच पर पहुंचाने के जयराम सरकार के प्रयासों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूरी तरह से खुश दिखे। प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्री जयराम के प्रयासों को सराहने के साथ-साथ स्वयं को हिमाचली बताते हुए हिमाचल की अपनी पुरानी यादों को भी कई बार ताजा किया। ऐसा मोदी ने देश व दुनिया से पहुंचे निवेशकों को विश्वास बंधाया कि पहाड़ों के बीच बसे हिमाचल को देश का दूर स्थित व छोटा राज्य समझने के बजाय उसके प्राकृतिक गुणों को समझें।

मां ज्वाला का नाम लेकर भाषण शुरू

धर्मशाला में आयोजित इन्वेस्टर मीट में पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में माता ज्वालाजी का नाम लेकर अपना संबोधन शुरू किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मां ज्वाला की पवित्र नगरी से जुड़े पुराने संस्मरण को अपने संबोधन में   बोले गए शब्दों में जगह दी। प्रधानमंत्री मोदी जवालामुखी में 1997 में सात दिन रुके थे, जहां पर प्रदेश भाजपा 1998 के चुनाव के लिए मंथन कर रही थी। उस समय ज्वालामुखी भाजपा के महामंत्री रहे गया प्रसाद पाधा के आवास में उनके रहने की व्यवस्था की गई थी।