जयशंकर को विदेश मंत्रालय की कमान

मोदी कैबिनेट में शामिल हुए पूर्व विदेश सचिव एस जयशंकर ने सभी को चौंका दिया। यह वह नाम था जिसका मीडिया में भी जिक्र शपथ ग्रहण समारोह से पहले नहीं हुआ था। जयशंकर को मंत्री बनाना ही महज चौंकाने वाला नहीं था बल्कि पहली ही बार में वह दूसरे मंत्रियों पर भारी पड़े। उन्हें विदेश मंत्री बनाया गया है। एस जयशंकर को पीएम नरेंद्र मोदी का करीबी माना जाता है। इसके अलावा वह चीन के एक्सपर्ट भी मानें जाते हैं। वर्ष 2014 में जब नरेंद्र मोदी ने देश की कमान पहली बार संभाली थी तब खासतौर पर उन्हें विदेश सचिव बनाया गया था। आपको बता दें कि जयशंकर अमरीका, चीन समेत आसियान के विभिन्न देशों के साथ हुई कई कूटनीतिक बातचीत का हिस्सा रह चुके हैं। इन्हें मोदी के करीबी और चीन एक्सपर्ट के रूप में जाना जाता है।

शिक्षा

उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा द एयर फोर्स स्कूल से पूरी की और दिल्ली विश्वविद्यालय के सेंट स्टीफन कॉलेज से स्नातक किया। उन्होंने राजनीति विज्ञान में एमए, एमफिल और पीएचडी की है। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से अंतरराष्ट्रीय संबंधों में डिग्री ली जहां से उन्होंने परमाणु कूटनीति में विशेषज्ञता हासिल की। जयशंकर को राजनीति से जुड़े मसलों का भी काफी अनुभव है। वे भारत-अमरीका नागरिक परमाणु सौदे को अमलीजामा पहनाने वाली टीम के प्रमुख सदस्य रहे हैं। अमरीका के साथ उनके संबंध 1980 के दशक से हैं।

Related Stories: