Wednesday, October 16, 2019 01:59 AM

जयसिंहपुर में ‘दिल दियां गल्लां’

दशहरा उत्सव जयसिंहपुर मेले की तीसरी व आखिरी सांस्कृतिक संध्या हिंदी और पंजाबी कलाकारों के नाम

लंबागांव, जयसिंहपुर -राज्य स्तरीय दशहरा उत्सव जयसिंहपुर के समापन अवसर पर प्रदेश सरकार में मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव संजय कुंडू   मुख्यातिथि ने पुतला दहन व भव्य आतिशबाजी का आनंद लिया। मेले की तीसरी व आखिरी   सांस्कृतिक संध्या हिंदी व पंजाबी कलाकारों के नाम रही। यहां मुकुल ने तुम जो मिल गए हो से शुरुआत करके खामोशियां, कच्चे धागे व पिया रे पिया रे गाने गाकर उपस्थित जनसमूह का मनोरंजन किया, वहीं गौरव कौंडल ने तेरे बिना नहीं लगदा दिल मेरा, मैं तैनू समझावां की गाने गाए, जब कृतिका तनवर के मंच पर पहुंचते ही पंडाल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। कृतिका ने दिल दियां गल्लां, शुरू ही किया था कि युवा वर्ग बेकाबू हो झूम उठा, उसके  बाद आफरीन आफरीन व आंख मारे ओ लड़का आंख मारे गाने गाकर लोगों को झुमाया ही नहीं, बल्कि पंडाल सीटियों व तालियों की आवाज से गूंज उठा। आखिर में स्टार कलाकर बी प्राक के स्टेज पर पहुंचते ही पांडाल सीटियों से गूंज उठा। प्राक ने मन भरेया, किस्मत, रोन होएगा डोलना व पछताओगे आदि गाने गाकर लोगों को बैठे रहने के लिए मजबूर कर दिया। मंगलवार को मेले की सांस्कृतिक संध्या में लोगों का इतना हुजूम हुआ कि मैदान में लगा पंडाल छोटा पड़ गया। बैठने के लिए बनाए पंडाल से किनारों से पर्दे तक उठाने पड़ गए। इस मौके पर विभिन्न विभागीय उच्च अधिकारियों सहित अनेक गणमान्य कार्यक्रम का लुत्फ उठाने पहुंचे हुए थे।