Monday, September 16, 2019 07:47 PM

जर्जर मकान…हर पल गिरने का सता रहा डर

जवाली -उपमंडल कोटला के अंतर्गत पंचायत नढ़ोली को भले ही बीपीएल मुक्त कर दिया गया हो, लेकिन पंचायत की पोल खुल कर सामने आ रही है। पंचायत नढ़ोली के गांव खजेटा निवासी राम सरन खस्ताहालत मकान में अपने परिवार के साथ जान को जोखिम में डालकर रह रहा है। रामशरण के परिवार में उसकी माता साहनी देवी (80) पत्नी रेवा देवी, पुत्र रितिक व सुहानी सदस्य हैं। रामशरण ने बताया कि वह मेहनत मजदूरी करके परिवार के पालन-पोषण करता है। रामशरण ने बताया कि उसके मकान को चारों तरफ  दरारें आ गई हैं तथा मकान बारिश में कभी भी धराशायी हो सकता है। जब भी बादल गरजते हैं, तो मकान भी थरथराने शुरू हो जाता है। बारिश होने पर वह अपने परिवार को साथ लेकर खुले आसमान के नीचे रात बिताने को मजबूर होता है। रामशरण ने कहा कि उसे करीब पांच माह पहले बीपीएल में डाला गया, लेकिन हाल ही में पंचायत प्रतिनिधियों ने पंचायत को बीपीएल मुक्त करते हुए मेरा नाम बीपीएल से काट दिया गया। रामशरण ने कहा कि वेलफेयर में मकान के लिए आवेदन कर रखा है, लेकिन अभी तक कोई भी राहत नहीं मिली है। पंचायत प्रधान के पास भी कई बार जा चुका हूं, लेकिन कोई भी मदद नहीं मिल पाई है। उन्होंने आरोप लगाया कि जिन लोगों ने मकान की ग्रांट के लिए मुझसे बाद में वेलफेयर में आवेदन किया, उनको पैसे मिल गए हैं। उन्होंने एसडीएम जवाली अरुण कुमार शर्मा से गुहार लगाई है कि प्रशासन की तरफ से आर्थिक सहायता मुहैया करवाई जाए, ताकि वह परिवार के साथ बिना किसी डर से रह सके।  इस बारे में संबंधित पटवारी विनय कुमार से बात हुई तो उन्होंने कहा कि मैं मौका पर गया था और मकान गिरने की कगार पर है। उन्होंने कहा कि रिपोर्ट तैयार करवाकर प्रशसन को भेज दी जाएगी। इस बारे में एसडीएम जवाली अरुण कुमार शर्मा ने कहा कि रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। उन्होंने कहा कि प्रशासन की तरफ से सहायता मुहैया करवा दी जाएगी।