Tuesday, November 19, 2019 03:01 AM

जल्द पूरे होंगे सरकार के दिए प्रोजेक्ट

एसजेवीएनएल-एनटीपीसी ने दिलाया भरोसा; सुनिश्चित बनाएं ऊर्जा क्षमता का दोहन, दिक्कतें दूर करने के लिए सरकार से मांगी मदद

धर्मशाला - सार्वजनिक उपक्रमों को मिली बिजली परियोजनाओं पर यह उपक्रम तेजी से काम करेंगे और यहां की ऊर्जा क्षमता का दोहन सुनिश्चित बनाएंगे। सतलुज जल विद्युत निगम लिमिटेड और एनटीपीसी ने कहा है कि उसे जो प्रोजेक्ट सरकार ने दिए हैं, वे जल्द तैयार किए जाएंगे। इन्वेस्टर्स मीट के दौरान सेक्टोरल सेशन में प्रधान सचिव ऊर्जा प्रबोध सक्सेना ने बताया कि चिनाब बेसिन में तीन हजार मेगावाट की क्षमता है, जिसका अभी तक दोहन नहीं हो सका है। एनएचपीसी को डुगर व एनटीपीसी को सेली व मियाड परियोजनाएं दी गई हैं, वहीं एसजेवीएनएल को पुर्थी, बरदंग के बाद रियोली दुगली परियोजना दी है। उम्मीद है कि जल्द यहां प्रोजेक्ट लगेंगे। एसजेवीएनएल के सीएमडी नंद लाल शर्मा ने कहा कि ऊर्जा क्षेत्र में प्रदेश में बड़ी संभावनाएं हैं। 34 गीगावाट सोलर और 23.5 गीगावाट हाइड्रो यहां मौजूद हैं। जो परियोजनाएं उन्हें दी गई हैं, उन पर तेजी के साथ काम किया जाएगा। एनटीपीसी के चेयरमैन गुरदीप सिंह ने कहा कि थर्मल के बाद उनकी कंपनी ने हाइड्रो, सोलर और विंड पर काम शुरू किया है। उन्होंने प्रदेश सरकार से और परियोजनाएं देने की बात कही। जेएसडब्ल्यू के सीईओ प्रशांत जैन ने कहा कि निर्माण लागत व टैरिफ को मीट आउट करना चुनौतीपूर्ण है। प्रोजेक्ट में देरी से टैरिफ बढ़ता है और फिर प्रोजेक्ट  फायदेमंद नहीं रहता। वर्तमान परिवेश में निजी उद्यमियों के साथ कई तरह की चुनौतियां पेश आ रही हैं, जिसमें सरकार को मदद करनी चाहिए। एसएन पावर नार्वे के पदाधिकारी एरिक्सन ने कहा कि वह यहां तीन परियोजनाओं पर काम कर रहे हैं और तेजी के साथ प्रोजेक्ट्स पर काम चल रहा है। उन्होंने माना कि पहाड़ी राज्य होने के नाते यहां की भौगोलिक परिस्थितियां कठिन हैं, लिहाजा आधारभूत ढांचा तैयार करने में दिक्कतें आती हैं। ये कठिनाइयां दूर करने में सरकार को भी मदद करनी चाहिए।