Friday, September 20, 2019 12:18 AM

जानलेवा बारिश, 100 सड़कें ठप

जिला में 10 लोगों की गई जान; करोड़ों का नुकसान, कई जगह गिरे पेड, शहर में चार मकान गिरे

शिमला -जिला शिमला में बारिश ने जमकर तांडव मचाया है। भारी बारिश काल बन कर बरसी है। जिला में बारिश ने 10 लोगों के प्राण ले लिए हैं। जिला में भू-स्खलन से 100  से अधिक मार्ग वाहनों की आवाजाही केे लिए ठप पड़ गए हैं। इसके अलावा पेडों केे गिरने से शिमला मे जान माल को काफी नुकसान पहुंचा हैै। बारिश ने जिला में जनजीवन को अस्त व्यस्त कर दिया हैै। बारिश से 24 घंटों के दौरान करोडों की संपति को नुकसान पहुंचा है। शिमला मेंं भारी बारिश से आरटीओ के समीप भू-स्खलन होने से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत होे गईर् है, जबकि इस हादसे में दो लोग घायल हुए हैं। जिनका आईजीएमसी अस्पताल मेंं उपचार चल रहा है। नारकंड़ा के कथडू में एक ढारे के ऊपर पेड़ गिरने से अंदर सो रहे सात लोग इसकी चपेट में आए। इनमें सेे दो लोगों की मौैके पर ही मौत हो गई है। हादसे में पांच लोग घायल हुए हैं। सभी लोग नेपाल के रहने वाले बताए जा रहे हैं। शिमला के भट्टाकुुफर में लैंड स्लाइड होने से चट्टान के पत्थर मकान में घुसने से एक व्यक्ति की मौत हुई है, जबकि इसमें छह लोग घायल हुए हैं, जिनका आईजीएमसी में उपचार चल रहा है। घणाहट्टी के चनोग में एक महिला की मौत हुई है। ठियोग के चिखड में तातल नदी में चार लोग बह गए, जिसमें एक की मौत हुुई हैै, एक महिला लापता है। जबकि दो लोगोें को सुरक्षित बचा लिया गया है। वहीं, रोहडू के  हाटकोटी में भू-स्खलन होने  से एक ट्रक इसकी चपेट में आ गया। इस हादसे में ट्रक चालक की मौके पर ही मौैत हो गई। इसके अलावा जिला शिमला के कोटखाई के सनेरा में बादल फटने से भारी नुकसान हुआ है। इसमें  एक व्यक्ति की मौत की सूचना है और दो लापता हैं। अभी भी राहत कार्य चल रहा है।

मलबे में दबे कई वाहन, खूब नुकसान पहुंचा

शिमला में भू-स्खलन होने से कई वाहन मलबे की चपेट में आ गए हैं। नाभा में दो वाहन क्षतिग्र्रस्त हुए हैं। केएनएच के समीप भी एक वाहन को नुकसान पहुंचा हैै।

24 घंटों में एक करोड़ का नुकसान

शिमला में भारी बारिश से काफी नुकसान हुआ है। कई मकानों को भू-स्खलन से नुकसान पहुंचा है, तो कई मकान खतरे की जद मंे आ गए हैं। शिमला मे बारिश से नुकसान का आकलन एक करोड के करीब लगाया गया है, जो 24 घंटों के  दौरान का है।

जनता कोे झेलनी पड़ीं दिक्कतें

जिला शिमला में भारी बारिश के कारण 100 से अधिक मार्ग अवरुद्ध चल रहे हैं। मार्ग बंद होने से अधिकतर रूटों पर बसों  की आवाजाही भी बंद कर दी गई हैै। ऊपरी शिमला मेें एचआरटीसी की काफी संख्या मेंं बसें फंसी हुईर् हैं। यातायात सेेवा प्रभावित रहने से जनता को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

जिला में 100 से अधिक सड़कें ठप

जिला शिमला में भारी बारिश से 100 से अधिक सड़कें अवरुद्ध पड़ी हुई हैं। सडकों के बंद होने से जिला में यातायात व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है। ऊपरी शिमला में अधिकतर सभी मार्गों पर भू-स्खलन होने से वाहनों केे पहिए थम गए हैं, जिससे जनता को भारी दिक्कतोंे का सामना करना पड़ रहा है।

बारिश से शिमला में गिरे 20 पेड़

शिमला में भारी बारिश से 20 के करीब पेड़ गिरे हैं। पेड़ों के गिरने से मकानों को भी नुकसान पहुंचा है। इसके अलावा मार्गों पर पेड़ गिरने से घंटों तक वाहनों की आवाजाही भी थमी रही। ऐेसे में शिमला में लोगों को पैदल ही सफर करना पड़ा।

जिला में बिजली-पानी हुआ प्रभावित

जिला शिमला मेंं भारी बारिश से बिजली-पानी की व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है। जिला शिमला में पेड़ांे केे गिरने से बिजली लाइनोें को काफी नुकसान पहुंचा है। वहीं, पेयजल स्कीमों मेंं भारी बारिश के कारण जल स्तर बढ़ने से पंपिंग ठप पड़ गई है। शिमला शहर मंे भी पेयजल व्यवस्था पूरी तरह से बाधित चल रही है। शहर को पानी देने वाली गिरि व गुम्मा पेेयजल परियोजनाओं में बाढ़ जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई है।