Tuesday, March 31, 2020 01:55 PM

जिला सिरमौर में लॉकडाउन, निजी वाहनों व टैक्सियों पर रहेगा प्रतिबंध

नाहन-हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा  लॉकडाउन की घोषणा करने के बाद जिला सिरमौर में किसी भी प्रकार की आवाजाही पर पूर्णतः प्रतिबंध लगा दिया गया है यह जानकारी देते हुए उपायुक्त सिरमौर डा. आरके पारुथी ने बताया कि इस लॉकडाउन के दौरान यदि आपतकालीन स्थिति में  किसी  व्यक्ति को घर से निकलना हो तो टोल फ्री नंबर 1077 पर संपर्क करने के बाद ही अपने गंतव्य पर जा सकते है। इस दौरान निजी वाहनो का प्रयोग अस्पताल जाने व आवश्यक सेवाओें के लिए किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त सरकारी अधिकारियों,कर्मचारियों को  कार्यालय आन-जाने के लिए अपने पहचान पत्र साथ लेकर चलना अनिवार्य होगा। इस दौरान जिला में सभी निजी वाहनों व टैक्सियों  को प्रतिबंधित  कर दिया गया है इसके अतिरिक्त जिला सिरमौर में दूसरे राज्यों से आने व जाने वाले वाहनों पर भी रोक लगा दी गई है । उन्होंने बताया कि इस दौरान सभी दुकानें, वाणिज्यिक प्रतिष्ठान, कार्यशालाएं, गोदाम व कारखाने आदि बंद रहेंगे। लेकिन वह दुकाने जो किराने का सामान दूध, ब्रेड, फल, सब्जियां और अन्य बिना पके खाद्य पदार्थ और उनके परिवहन से संबंधित गतिविधियों और भंडारण के लिए छुट दी गई है।  उन्होंने बताया कि दूध, सब्जियां व किराने का सामान की ब्रिक्री के लिए दिन व समय निर्धारित किए गए है जिसमें मार्च माह में 24, 26, 28, व 30 को यह वस्तुए दुकानों पर दोपहर 12 बजे से सायं तीन बजे तक उपलब्ध रहेंगी। इसी प्रकार अप्रैल माह में 1, 3, 5, 7, 9,11, 13 व 15 तारीखों में आवश्यक वस्तुऐं दुकानों पर उपलब्ध रहेगी। इसके अतिरिक्त नाहन के बड़ा चौक में लगने वाली सब्जियों की दुकानंे लॉकडाउन के दौरान चौगान मैदान में दोपहर दस बजे से सायं तीन बजे तक उपलब्ध रहेंगी। उन्होंने कहा कि लोगों को खरीददारी करते समय एक मीटर का दायरा बनाकर रखना अनिवार्य होगा। इसके अतिरिक्त अस्पताल, केमिस्ट स्टोर, ऑप्टिकल स्टोर और पैट्रोल पंप, एलपीजी गैस, ऑयल एजेंसी व उनके गोदाम व उनके परिवहन संबंधी कार्य जारी रहेगें। पैट्रोल पंपों का संचालन प्रातः नौ बजे से सायं छह बजे तक रहेगा। उन्होंने बताया कि फार्मास्युटिकल और साबुन निर्माण इकाइयां और आवश्यक उद्योगों का संचालन प्रशासन की स्वीकृति के बिना नहीं होगा और उनमें काम करने वाले बाहरी राज्यों के मजदूरों का जिला मंे प्रवेश वर्जित रहेगा। तथा इस दौरान केवल जिला में रह रहे मजदूरों को ही इन उद्योगों में प्रवेश मिलेगा। उपायुक्त ने बताया कि इस दौरान  जिला में सभी प्रकार निर्माण कार्यों पर पूर्णतः प्रतिबंध रहेगा।