Saturday, August 08, 2020 05:42 PM

जीएसटी में राज्यों को स्वायत्तता: भरत झुनझुनवाला, आर्थिक विश्लेषक

भरत झुनझुनवाला

आर्थिक विश्लेषक

इसलिए हमें ऐसी व्यवस्था बनानी चाहिए जिसमें कि राज्यों को अपने राजस्व में वृद्धि करने का इंसेंटिव तत्काल उपलब्ध हो जाए और वे प्रशासनिक सुधार के साथ लॉकडाउन में ढील देने के विकल्प की तरफ बढ़ें। इसलिए जीएसटी में राज्यों को दर को निर्धारित करने की स्वायत्तता तत्काल दे देनी चाहिए। साथ-साथ व्यवस्था बनानी चाहिए कि जितना अतिरिक्त राजस्व एकत्रित किया जाएगा, उसके कारण केंद्र सरकार द्वारा दिए जाने वाले कम्पनसेशन में कटौती नहीं होगी। तब राज्यों के लिए इंसेंटिव बनेगा कि वे अपनी प्रशासनिक व्यवस्था को सुधारें और लॉकडाउन को खोलते हुए राजस्व में वृद्धि भी हासिल करें। वर्तमान जीएसटी की व्यवस्था ऐसी है कि छात्रों के हॉस्टल में खिलाड़ी स्पोर्ट्स वुमैन या आर्टिस्ट को एक ही प्रकार का भोजन परोसा जा रहा है…

केंद्र सरकार ने राज्यों को आश्वासन दिया था कि अगले पांच वर्षों में जीएसटी के राजस्व में जो भी कमी होगी, उसकी भरपाई केंद्र सरकार करेगी। उस समय अनुमान लगाया गया था कि जीएसटी में प्रति वर्ष 14 प्रतिशत की वृद्धि होगी, लेकिन जीएसटी की वसूली पिछले दो वर्षों में सपाट रही है और वर्तमान संकट में इसमें गिरावट आ रही है। इस परिस्थिति में फिलहाल राज्यों को पर्याप्त राजस्व मिल जाएगा, चूंकि जीएसटी में गिरावट की भरपाई केंद्र सरकार के द्वारा कर दी जाएगी, लेकिन पांच वर्ष की अवधि समाप्त होने के बाद तमाम राज्यों पर भारी संकट आएगा। जैसे पंजाब की जीएसटी की वसूली में 44 प्रतिशत की गिरावट आई है। पांच वर्षों तक पंजाब को इस गिरावट का अहसास नहीं होगा क्योंकि इसकी भरपाई केंद्र सरकार द्वारा कर दी जाएगी, लेकिन पांच वर्षों के बाद एकाएक उनके राजस्व में 44 प्रतिशत की गिरावट आएगी जिसको उन्हें स्वयं वहन करना होगा। जीएसटी लागू करने के तीन प्रमुख उद्देश्य थे। पहला यह कि संपूर्ण देश में माल के वर्गीकरण को समान कर दिया जाए, जैसे पूर्व में किसी राज्य में क्राफ्ट पेपर को कागज के वर्ग में रखा जाता था और दूसरे राज्य में उसे पैकिंग मैटीरियल के वर्ग में। ऐसे में सीमा पर विवाद उत्पन्न हो जाते थे कि उस माल का वर्गीकरण क्या हो और उस पर किस दर से सेल टैक्स वसूल किया जाए। दूसरा उद्देश्य था कि टैक्स की चोरी पर अंकुश लगे जो कि ई-वे बिल की व्यवस्था के अंतर्गत हासिल करने का प्रयास किया गया है।

इसके अंतर्गत सभी माल के आवागमन का जीएसटी के पोर्टल पर पंजीकरण करना होता है जिसके आधार पर कोई भी निरीक्षक देख सकता है कि माल पर जीएसटी अदा की गई है अथवा इसे नंबर दो में एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाया जा रहा है। तीसरा उद्देश्य था कि सब राज्यों द्वारा एक ही समान दर से जीएसटी आरोपित की जाए जिससे कि उद्यमी को एक राज्य से दूसरे राज्य में माल ले जाने में सुविधा हो, संपूर्ण देश एक बाजार का रूप धारण कर ले। मान लिया जाए कि जीएसटी से संपूर्ण अर्थव्यवस्था को लाभ हुआ है, तो भी इसमें कोई संशय नहीं है कि जीएसटी के कारण राज्यों की स्वायत्तता में कमी आई है। आज पंजाब जैसा राज्य यदि अपने राज्य में बिके हुए माल पर जीएसटी की दर में परिवर्तन करना चाहे तो यह उसके अधिकार क्षेत्र से बाहर हो गया है। इसलिए पंजाब की स्थिति उस व्यक्ति के जैसी हो गई है जिसे कम भोजन से ही अपना जीवन यापन करना पड़ेगा।

उसके पास पर्याप्त भोजन हासिल करने का विकल्प समाप्त हो गया है। अतः हमें इस पर विचार करना चाहिए कि जीएसटी के प्रथम दो कारकों…यानी माल का समान वर्गीकरण और ई-वे बिल की व्यवस्था…को बनाए रखते हुए राज्यों को अलग-अलग दर से अपने राज्य में जीएसटी वसूल करने का अधिकार दे दिया जाए। जैसे दिल्ली से पंजाब भेजे गए माल पर पंजाब में लागू दर से टैक्स दिल्ली का विक्रेता वसूल करे। ऐसा करने से अंतरराज्यीय व्यापार सरल बना रहेगा क्योंकि माल का वर्गीकरण समान रहेगा और ई-वे बिल व्यवस्था जारी रहेगी। लेकिन साथ-साथ राज्यों को अपने राज्य के अंतर्गत बिकने वाले माल पर अलग-अलग दर से जीएसटी वसूल करने का अधिकार प्राप्त हो जाएगा और वे अपनी जरूरत के अनुसार जीएसटी की दर में परिवर्तन कर सकेंगे। वर्तमान कोरोना के संकट में जीएसटी में स्वायत्तता का विशेष प्रभाव पड़ेगा। जैसे इस समय हर राज्य के सामने तीन विकल्प हैं, पहला विकल्प है कि राज्य कड़क लॉकडाउन लागू करे जिससे कि मृत्यु की संख्या कम हो, राजनीतिक लाभ मिले, लेकिन इससे राजस्व में गिरावट आएगी। दूसरा विकल्प है कि अर्थव्यवस्था को खुला छोड़ दे जिससे मृत्यु की संख्या बढ़ने की संभावना है और राजनीतिक नुकसान हो सकता है। लेकिन राजस्व में लाभ होगा क्योंकि आर्थिक गतिविधियां चलती रहेंगी। तीसरा विकल्प है कि राज्य अपनी प्रशासनिक व्यवस्था को सुदृढ़ करे और सोशल डिस्टेंसिंग आदि नियमों को सख्ती से लागू कराए और साथ-साथ अर्थव्यवस्था को खोले। ऐसा करने से मृत्यु भी कम हो सकती है और राजस्व में वृद्धि भी हो सकती है। जाहिर है कि ऐसी परिस्थिति में सर्वश्रेष्ठ उपाय यह है कि राज्य अपनी प्रशासनिक व्यवस्था को सुधारे जिससे कि राजनीतिक और राजस्व दोनों उद्देश्य हासिल हो सकें। लेकिन वर्तमान जीएसटी व्यवस्था में राज्यों को फिलहाल राजस्व बढ़ने का प्रोत्साहन नहीं है। यदि किसी राजस्व में वृद्धि होती भी है तो उतना केंद्र से कम मिलेगा। जैसे यदि पंजाब को 100 करोड़ रुपए की जीएसटी की गारंटी केंद्र सरकार ने दे रखी है तो वर्तमान में पंजाब द्वारा 60 करोड़ रुपए की जीएसटी वसूल की जाती है अथवा 80 करोड़ रुपए की जीएसटी वसूल की जाती है। इससे राज्य को तनिक भी अंतर नहीं पड़ता है। यदि पंजाब 60 करोड़ रुपए की जीएसटी वसूल करता है तो केंद्र सरकार से 40 करोड़ रुपए का कंपनसेशन मिलेगा और यदि वह 80 करोड़ रुपए की प्राप्ति करता है तो उसे 20 करोड़ रुपए का कंपनसेशन मिलेगा। इसलिए आज के दिन किसी भी राज्य को इंसेंटिव नहीं है कि वह अपने राजस्व को सुधारे। …और चूंकि राजस्व में वृद्धि हासिल करने का इंसेंटिव नहीं है, इसलिए राज्यों द्वारा प्रशासनिक सुधार करने के स्थान पर कड़क लॉकडाउन को लागू करना लाभप्रद हो जाता है।

इससे उन्हें राजनीतिक लाभ मिलेगा, लेकिन राजस्व में गिरावट की भरपाई केंद्र सरकार द्वारा कर दी जाएगी। लेकिन इसी लॉकडाउन से आम जनता और राज्य की अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। इसलिए हमें ऐसी व्यवस्था बनानी चाहिए जिसमें कि राज्यों को अपने राजस्व में वृद्धि करने का इंसेंटिव तत्काल उपलब्ध हो जाए और वे प्रशासनिक सुधार के साथ लॉकडाउन में ढील देने के विकल्प की तरफ बढ़ें। इसलिए जीएसटी में राज्यों को दर को निर्धारित करने की स्वायत्तता तत्काल दे देनी चाहिए। साथ-साथ व्यवस्था बनानी चाहिए कि जितना अतिरिक्त राजस्व एकत्रित किया जाएगा, उसके कारण केंद्र सरकार द्वारा दिए जाने वाले कंपनसेशन में कटौती नहीं होगी। तब राज्यों के लिए इंसेंटिव बनेगा कि वे अपनी प्रशासनिक व्यवस्था को सुधारें और लॉकडाउन को खोलते हुए राजस्व में वृद्धि भी हासिल करें। वर्तमान जीएसटी की व्यवस्था ऐसी है कि छात्रों के हॉस्टल में खिलाड़ी स्पोर्ट्स वूमन या आर्टिस्ट को एक ही प्रकार का भोजन परोसा जा रहा है। हमें व्यवस्था करनी चाहिए कि हर राज्य अपने विवेक और अपनी जरूरत के अनुसार जीएसटी की दरों में परिवर्तन करे और अंतरराज्यीय व्यापार पर प्रतिकूल प्रभाव न पड़े। ऐसा करने से हम राज्यों की स्वायत्तता को बचा सकेंगे और उन्हें अच्छे प्रशासन के साथ लॉकडाउन खोलने की तरफ  बढ़ने के लिए प्रेरणा दे सकेंगे।

ई-मेलः bharatjj@gmail.com

The post जीएसटी में राज्यों को स्वायत्तता: भरत झुनझुनवाला, आर्थिक विश्लेषक appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.