Friday, October 18, 2019 12:49 PM

जीव-जंतुओं के संरक्षण में करें सहयोग

वन्यप्राणी सप्ताह समारोह के दौरान मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अपील

शिमला - पारिस्थितकीय संतुलन बनाए रखने में वन्यजीवों की महत्त्वपूर्ण भूमिका रहती है। ये प्रकृति की विविध पर्यावरणीय व्यवस्था को बनाए रखते हैं। यह बात मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने मंगलवार देर शाम राज्य वन्यजीव विंग द्वारा गेयटी थिएटर में आयोजित वन्यजीव सप्ताह के समापन समारोह की अध्यक्षता करते हुए कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि पुरातन समय से ही भारतीय पौराणिक कथाओं में वन्यजीवों को अत्यधिक महत्त्व दिया गया है। उन्होंने कहा कि पक्षियों, पशुओं व सांपों को हमारे समाज में पूजा जाता है। इसलिए हम सभी को कर्त्तव्य है कि हम इनके संरक्षण में योगदान दें। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश में वन्यजीवों के संरक्षण और सुरक्षा के लिए प्रतिबद्व है। उन्होंने चीहड़ फीजेंट के सफलतापूर्ण संरक्षण के लिए वन्य विभाग के वन्यजीव विंग की प्रशंसा की। जयराम ठाकुर ने कहा कि विलुप्त हो रहे पशुओं और पक्षिओं की प्रजातियों के संरक्षण पर अधिक बल देना चाहिए। उन्होंने कहा कि वन्य प्राणी जगत को सुरक्षित रखना महत्त्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि इस वर्ष का वन्यजीव सप्ताह का ‘थीम’ बर्फीले तेंदुआ पर केन्द्रित था, जोकि प्रदेश का राज्य पशु है।मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर स्मारिका का विमोचन भी किया। उन्होंने इस अवसर पर नाटक की प्रस्तुति के लिए स्थानीय स्कूलों के दो विद्यार्थियों को 5100-5100 रुपए देने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने वन्यजीव सप्ताह के आयोजन के दौरान विभिन्न कार्यक्रमों और प्रतियोगिताओं के विजेताओं को पुरस्कार भी वितरित किए। इस दौरान शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने कहा कि यह हम सभी का कर्त्तव्य है कि देश व प्रदेश में वन्यजीवों का संरक्षण करें।  प्रधान मुख्य अरण्यपाल वन डा. अजय कुमार ने कहा कि वन्यजीव सप्ताह का आयोजन देश में प्रति वर्ष दो से आठ अक्तूबर तक मनाया जाता है। प्रधान मुख्य अरण्यपाल (वन्य प्राणी) डा. सरिता ने मुख्यमंत्री और अन्य गणमान्य लोगों का स्वागत किया।

इन बच्चों को इनाम

इस दौरान ऑक्सफोर्ड अंतरराष्ट्रीय स्कूल हमीरपुर की अक्षिता ठाकुर ने चित्रकला प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार प्राप्त किया। सुपर मैग्नेट सीनियर सेकेंडरी स्कूल हमीरपुर के हर्ष कुमार ने द्वितीय और गुरुकुल पब्लिक सीनियर सेकेंडरी स्कूल हमीरपुर की गौरी राय ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। डीएवी पब्लिक स्कूल शिमला के सौम्य सैणी, राजकीय मॉडल वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला घणाहट्टी के शुभम आनंद शर्मा और राजकीय मॉडल वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला चंबा की अदिति शर्मा ने हिंदी नारा लेखन प्रतियोगिता में क्रमशः प्रथम, द्वितीय तथा तृतीय स्थान प्राप्त किया। लोरेंटो कॉन्वेंट ताराहॉल शिमला की अदिति वर्मा, दयानंद पब्लिक स्कूल शिमला की पलक और ब्लू स्टार स्कूल हमीरपुर की प्रगति ने अंग्रेजी नारा लेखन प्रतियोगिता में क्रमशः प्रथम, द्वितीय तथा तृतीय स्थान हासिल किया। दयानंद पब्लिक स्कूल शिमला की अक्षिता शर्मा, राजकीय मॉडल स्कूल चंबा की अदिति अहीर ने हिंदी निबंध लेखन प्रतियोगिता में क्रमशः प्रथम व द्वितीय स्थान पर रहे, जबकि सेंट एडवर्ड स्कूल शिमला के पूरब कुलरंजन सिंह, दयानंद स्कूल शिमला की दीप्ति सूद और डीएवी स्कूल लक्कड़ बाजार शिमला के प्राची पीयूनस ने अंग्रेजी निबंध लेखन प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय तथा तृतीय स्थान हासिल किया। वन्यजीव अंतर-विश्वविद्यालय प्रशनोत्तरी प्रतियोगिता में नौणी विश्वविद्यालय के अमन महाजन और तरुण वर्मा ने प्रथम पुरस्कार, पालमपुर विश्वविद्यालय के कुश भारद्वाज और नवजोत सिंह ठाकुर तथा हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय शिमला की पूजा और कार्तिक ठाकुर ने क्रमशः द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त किया। वन कर्मी सुखवीर सिंह को चीहड़ फिजेंट प्रजनन केंद्र खड़ीयून में उनके द्वारा दी गई उत्कृष्ट सेवाओं के लिए पुरस्कृत किया गया।