Monday, September 23, 2019 02:00 AM

जुब्बल कोटखाई-चौपाल में तैनात किए अधिकारी

शिमला -चौपाल क्षेत्र में अतिरिक्त उपायुक्त शिमला तथा जुब्बल क्षेत्र में अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी प्रोटोकॉल को 19 अगस्त से चार दिनों के लिए भारी बारिश से हुए नुकसान के बाद स्थिति से निपटने तथा जनजीवन को सामान्य बनाए रखने के लिए वहीं तैनात रहेंगे। उपायुक्त अमित कश्यप ने इस बाबत आदेश जारी कर दिए है। भारी बारिश के कारण जिला में अभी तक करीब 90 करोड़ रुपए के नुकसान का आकलन किया गया है। जिला में शनिवार शाम से 205 एमएम बारिश दर्ज की गई है। उपायुक्त शिमला अमित कश्यप ने यह जानकारी सोमवार को दी। अमित कश्यप ने बताया कि भारी वर्षा के कारण हुए विभिन्न हादसों में जिला में 12 लोगों की मौत हुई है तथा 270 सड़के क्षतिग्रस्त हुई हैं। उन्होंने बताया कि जिला के सभी उपमंडलाधिकारियों को सड़कों को सुचारू बनाये रखने के लिए कडे़ निर्देश जारी किए गए हैं। इसके लिए प्रत्येक उपमंडलाधिकारी को 30 लाख रुपए की राशि प्रदान की गई। उपायुक्त ने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा जिला के लिए पांच करोड़ रुपए की अग्रिम राहत राशि प्रदान की गई है। उपायुक्त शिमला ने कहा कि सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग की जिला में भारी बारिश के कारण बाधित हुई जलापूर्ति की 80 प्रतिशत स्कीमों को जल्द सुचारू कर दिया जाएगा। उन्होंने हिमाचल पथ परिवहन निगम के अधिकारियों को जिला के सभी सम्पर्क सड़कांे पर यातायात को सुचारू रखने के निर्देश दिये। जिला में विद्युत की लगभग 580 डीटीआर प्रभावित हुई हैं, जिनमें से 50 प्रतिशत को ठीक कर दिया गया है। जिला प्रशासन द्वारा नगर निगम को शहर में नुकसान की संभावना वाले चिन्हित 197 पेड़ो की अनुमति लेकर तुरंत काटने के निर्देश दिए गए। जिला प्रशासन द्वारा भारी वर्षा से हुए नुकसान से जनजीवन को सामान्य बनाने के लिए युद्धस्तर पर कार्य किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जिला में संचार व्यवस्था सामान्य है। बिजली की आपूर्ति चैपाल के अतिरिक्त अन्य सभी स्थानों पर सामान्य है। जिला के सभी राष्ट्रीय मार्ग खोल दिए गए हैं। उपायुक्त शिमला ने नगर निगम शिमला को शिमला नगर मंे जलापूर्ति  सामान्य बनाए रखने के निर्देश दिए हैं।