Monday, April 06, 2020 06:40 PM

झंडा रस्म-आरती से नवरात्र शुरू

नयनादेवी - प्रदेश के विश्व विख्यात शक्तिपीठ श्रीनयनादेवी में चैत्र नवरात्र झंडा चढ़ाने की रस्म आरती के साथ शुरू हो गए। हालांकि इस बार नवरात्र पूजन से श्रद्धालु महरूम रहे। वरिष्ठ पुजारी आनंद गोपाल के मुताबिक ऐसा पहली बार हुआ है कि माता के नवरात्र पूजन हो और कोई श्रद्धालु मौजूद न हो। अगर किसी कारण बाहर प्रदेशों से श्रद्धालु न पहुंचे तो स्थानीय लोग तो नवरात्र में जरूर मौजूद रहते थे, लेकिन इस बार पूरा मंदिर श्रद्धालुओं के बिना खाली रहा। पुजारी का कहना था कि प्राचीन परंपराओं के मुताबिक नवरात्र के दौरान मंदिर में पूजा-पाठ का आयोजन चलता रहेगा। बुधवार से शुरू हुआ मंदिर में पूजा-पाठ अगले नौ दिन तक चलता रहेगा और पूजा-पाठ के साथ-साथ हवन यज्ञ भी  किया जाएगा। स्थानीय पुजारी यमलेंद्र कुमार ने बताया कि माता श्री नयना देवी के प्राचीन हवन कुंड में कोरोना वायरस की महामारी से नाश के लिए विभिन्न प्रकार के जड़ीबूटियों का हवन किया जा रहा है। उन्होंने श्रद्धालुओं से भी प्रार्थना की कि वह घर बैठकर नवरात्र पूजन करें और मां से प्रार्थना करें कि इस महामारी का अंत शीघ्र हो पूरा देश स्वस्थ हो जबकि मंदिर न्यास के अध्यक्ष एसडीएम सुभाष गौतम का कहना है कि नवरात्र के दौरान मंदिर श्रद्धालुओं के लिए बंद है, लेकिन मंदिर में पूजा पाठ आरती चलती रहेगी। उन्होंने कहा कि मंदिर की साफ -सफाई की गई है और मंदिर में सुरक्षा के भी कड़े बंदोबस्त हैं और उन्होंने श्रद्धालुओं से अपील की कि  घर बैठकर मां से प्रार्थना करें कि इस महामारी का निवारण हो और सब स्वस्थ रहे। मंदिर अधिकारी हुस्न चंद चौधरी ने भी नवरात्र के इस पावन उपलक्ष्य पर माता रानी से प्रार्थना की कि माता रानी कोरोना वायरस की महामारी से सबको सुरक्षित रखें और उन्होंने स्थानीय लोगों से भी अपील की कि वह घरों में रहे और बाहर निकले हिमाचल प्रदेश सरकार और प्रशासन के आदेशों की पालना करें।