Monday, September 23, 2019 02:26 AM

झमराडि़यां में मकानों पर गिरा मलबा

पीडि़तों के सिर पर टूटा मुसीबतों का पहाड़ टैंट में रातें गुजार रहे परिवार

बरठीं -ग्राम पंचायत घंडीर के झमराडियां गांव में भारी बारिश दो परिवारों पर उस वख्त कहर बन गई। जब रत्न लाल पुत्र महंत राम के घर पर टनों के हिसाब से मलबा आ गिरा तथा सुनीता देवी पत्नी स्व. मोहन लाल की कई बीघे जमीन को भारी नुकसान हुआ है। पूर्व पंचायत उपप्रधान विजय कौशल, विनोद कुमार,रमेश कुमार, बलदेव, धर्म सिंह व सुनील कुमार ने बताया कि दोनों परिवार अत्यंत गरीब हैं तथा आईआरडीपी से संबंधित हैं। उन्होंने बताया कि रत्न लाल के दो कमरों वाले लैंटलनुमा रिहायशी मकान पर डंगा ढह जाने  के साथ ही टनों के हिसाब से मलबा आ गिरा तथा  मकान को खतरा बन चुका है। पानी युक्त दलदल हुए मलबे से मकान को लगातार धक्क बनी हुई है। यहां तक कि डंगे के ऊपर की ओर बंधी दूसरे परिवार की भैंस मलबे में धंस जाने से उसे कड़ी मशक्कत से बाहर निकाला गया। उन्होंने बताया कि परिवार के चार सदस्य मजबूरी वश टैंट में राते बिताने को मजबूर हो चुके हैं। जबकि मकान के लैंटल को अंदर की ओर से लकड़ी की बल्लियों के सहारे टिकाया गया है, ताकि लैंटल टिका रह सकें व मकान बच सकें, लेकिन खतरा ज्यों का त्यों बना हुआ है। उन्होंने बताया कि इसी गांव में सुनीता देवी की कई बीघे जमीन के दरक जाने से खेती युक्त जमीन को भारी नुक्सान हुआ है। उन्होंने प्रशासन से मांग की है कि मौके का जायजा लेकर उक्त परिवारों को राहत प्रदान की जाए तथा डर के साए में रह रहे रत्न लाल के घर पर से मलबा हटवाकर परिवार को डर के साए से निजात दिलाई जाए।

बिलासपुर-स्वारघाट-कीरतपुर मार्ग पर बहाल हुआ एकतरफा ट्रैफिक

लोक निर्माण विभाग बिलासपुर से सोमवार शाम बंद पड़े बिलासपुर-स्वारघाट-कीरतपुर सड़क मार्ग को एक तरफा वाहनों के लिए खोल दिया है। पूरा दिन जेसीबी लगाकर इस मार्ग पर आए भारी मलबे व चटान के कुछ हिस्से को हटाने में कामयाबी मिली है। हालांकि रोड अभी भी पूरी तरह नहीं खोला गया है। एसई अजय गुप्ता ने बताया कि देर शाम तक इस मार्ग को वाहनों के लिए खोल दिया जाएगा।