Sunday, November 17, 2019 04:37 PM

टमाटर ने लगाई सेंचुरी

शिमला - प्याज के रुलाने के बाद अब टमाटर भी लाल हो गया है। प्याज के बाद अब टमाटर का खुदरा मूल्य बढ़कर 80-100 रुपए प्रति किलो हो गया है। प्याज और टमाटर की इन बढ़ती कीमतों के लिए लगातार हो रही बारिश को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। साथ ही पहाड़ी टमाटरों की पंजाब व निचले क्षेत्रों में डिमांड अधिक आ रही है। इसी कारण हिमाचल में टमाटर के दामों में बढ़ोतरी हुई है। इन दिनों टमाटर की कीमत में लगभग 100 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी। महीने की शुरुआत में 30 से 40 रुपए किलो तक टमाटर का भाव हो गया था। हालांकि कम आपूर्ति के चलते भी दामों में वृद्धि होने की बात कही जा रही है। इस साल जुलाई के महीने में भी टमाटर की कीमतों में वृद्धि हुई थी और यह वृद्धि बढ़ कर 80 रुपए प्रति किलो तक पहुंच गई थी। अन्य सब्जियों और फलों की कीमतें भी इस समय औसत से काफी अधिक हैं। टमाटर के दामों में आई बढ़ोतरी से आम लोगों के घर खर्च पर भी प्रभाव पड़ रहा है। वहीं महिलाएं इन दिनों टमाटर खरीदने से बच रही हैं। शिमला की सब्जी मंडी के व्यापारियों का भी कहना है कि टमाटर के दामों में आए उछाल से टमाटर की खरीददारी पर प्रभाव पड़ा है, खरीददारी कम हुई है। 

बारिश के कारण आवक कम

इस बार हुई अधिक बारिश के कारण टमाटर की फसल में भी  प्रभाव पड़ा है। कई एक क्षेत्रों में टमाटर की कम पैदावार हुई है। वहीं, मैदानी क्षेत्रों में टमाटर की डिमांड अधिक देखी जा रही है। ऐसे में आम लोगों के जेब खर्च पर बुरा प्रभाव पड़ा है।