Sunday, July 12, 2020 01:35 PM

टिड्डी दल के हमले से कृषि विभाग अलर्ट

 बिलासपुर – राजस्थान, गुजरात और मध्य प्रदेश के बाद हिमाचल में भी टिड्डी दल के हमले की आशंका के मद्देनजर कृषि विभाग अलर्ट हो गया है। कृषि विभाग ने टिड्डी दल के हमले की आशंका से फसलों को बचाने के लिए किसानों को आवश्यक परामर्श दिए हैं। गुरुवार को कृषि विभाग बिलासपुर के डिप्टी डायरेक्टर डा. कुलदीप पटियाल ने बताया कि टिड्डी दल एक बार फिर चर्चा में है। अब टिड्डी दल ने भारत में घुसपैठ शुरू कर दी है। अभी तक राजस्थान, गुजरात और मध्य प्रदेश में 50 हजार हेक्टेयर से ज्यादा की फसल टिड्डी दल ने खराब कर दी है। साथ ही उत्तर प्रदेश के भी कुछ हिस्सों में टिड्डी दल पहुंच गया है। उन्होंने बताया कि एक टिड्डी दिनभर में 100 से 150 किलोमीटर तक उड़ सकती है और 20 से 25 मिनट में ही पूरी फसल बर्बाद कर सकती है। इन्हीं सब कारणों से इसे 27 साल बाद सबसे बड़ा टिड्डी हमला माना जा रहा है। उन्होंने बताया कि आमतौर पर भारत में टिड्डियों का हमला राजस्थान, गुजरात और हरियाणा में होता है। ये रेगिस्तानी टिड्डे होते हैं, इसलिए इन्हें ब्रीडिंग के लिए रेतीला इलाका पसंद आता है। उन्होंने बताया कि इन टिड्डों का ब्रीडिंग पीरियड जून-जुलाई से अक्तूबर और नवंबर तक होता है। एफएओ के मुताबिक एक टिड्डी एक बार में 150 अंडे तक देती है। ऐसा कहा जाता है कि टिड्डियां बड़ी तेजी से बढ़ती हैं। इनकी पहली पीढ़ी 16 गुना, दूसरी पीढ़ी 400 गुना और तीसरी पीढ़ी 16 हजार गुना से बढ़ जाती है। उन्होंने बताया कि भारत में टिड्डियां पाकिस्तान के जरिए आती हैं। पाकिस्तान में ईरान के जरिए आती हैं। इसी साल फरवरी में टिड्डियों के हमलों को देखते हुए पाकिस्तान ने नेशनल एमरजेंसी घोषित कर दी थी। इसके बाद 11 अप्रैल से भारत में भी टिड्डियों का आना शुरू हो गया। उन्होंने बताया कि फसलों को टिड्डियों से बचाने के लिए लोग डीजे तक बजा रहे। उन्होंने बताया कि फसलों को टिड्डियों से बचाने का वैज्ञानिक तरीका तो कीटनाशकों का छिड़काव है। उन्होंने बताया कि इस साल पहली बार छत्तीसगढ़ में भी टिड्डियों का हमला होने का अंदेशा है। लिहाजा लोगों ने पहले ही उन्हें भगाने के लिए डीजे बुक करवा लिए हैं।उन्होंने बताया कि कई जगहों पर किसान टिड्डियों को भगाने के लिए थालियां पीटते हैं। तेज गाने बजाते हैं। आग जलाते हैं। वहीं, उन्होंने जिला के किसानों से आग्रह किया है कि वे सचेत रहें व इस संबंध में कृषि विभाग के दूरभाष नंबर 01978-222454 व जिला कृषि अधिकारी 94184-73075 से संपर्क कर सकते हैं।

The post टिड्डी दल के हमले से कृषि विभाग अलर्ट appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.