Thursday, November 14, 2019 03:26 PM

टेंशन फ्री होकर इन्वेस्ट करें निवेशक

इन्वेस्टर्स मीट में बोले मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, हर सुविधा देने के लिए विशेष प्रयास करेगी सरकार

धर्मशाला — इन्वेस्टर्स मीट के समापन पर पहुंचे मुख्यातिथि केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल प्रर्दशनी का अवलोकन करते हुए

धर्मशाला  - मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने अपने संबोधन में कहा कि प्रदेश सरकार ने निवेशकों को आकर्षित करने और सुविधाएं प्रदान करने के उद्देश्य से कई नीतियां अधिसूचित की हैं। प्रदेश में निवेश करने वाले निवेशकों को किसी तरह की परेशानी न हो, इसके लिए विशेष प्रयास किए जाएंगे। सीएम ने कहा कि प्रदेश सरकार हिमाचल को उद्योग, आयुष, ऊर्जा, पर्यटन, कृषि, अधोसंरचना और संबंधित क्षेत्र में निवेश के आदर्श राज्य बनाने का प्रयास कर रही है। इसके लिए औद्योगिक और निवेश नीति, पर्यटन नीति, फिल्म नीति, सूचना प्रौद्योगिकी नीति, आयुष नीति और ऊर्जा नीति अधिसूचित की गई हैं, जिसके अंतर्गत सर्वश्रेष्ठ प्रोत्साहन दिए जा रहे हैं। ये सभी नीतियां प्रदेश के समावेशी और सतत्् विकास के लिए सरकार के संकल्प को दर्शाती हैं। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि इन्वेस्टर्स मीट आयोजित करने का यह पहला, लेकिन चुनौतिपूर्ण प्रयास था, जो निःसंदेह ऐतिहासिक है।  निवेशकों के सहयोग से हिमाचल प्रदेश की आर्थिकी में आशातीत बदलाव आएगा। सम्मेलन की सफलता का श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय मंत्रियों के निरंतर सहयोग को भी जाता है।

अब तक 614 समझौते

सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि अभी तक 614 समझौता ज्ञापन हस्ताक्षरित किए जा चुके हैं, जिससे लगभग 93 हजार करोड़ रुपए का निवेश आकर्षित होगा। जो समझौता ज्ञापन हस्ताक्षरित किए जा चुके हैं, उन्हें सभी प्रकार की सहायता एवं सहयोग सुनिश्चित किया जाएगा, जिससे इन पर कार्य शीघ्रता से आरंभ हो सके। उन्होंने कहा कि सभी संबंधित विभाग परियोजनाओं के लिए विभिन्न प्रकार के अनापत्ति प्रमाण पत्र एवं स्वीकृतियां प्रदान करने के लिए कारगर कदम उठाएंगे, जिससे उद्यमियों को आगे की कार्रवाई में कोई परेशानी न हो।

किस क्षेत्र में कितने एमओयू (करोड़ों में)

हाइड्रो व नवीकरण ऊर्जा         33852

पर्यटन, होस्पिटेलिटी              15978

मैनुफैक्चरिंग-फार्मा                13015

हाउसिंग                               12278

यूडी-ट्रांसपोर्ट                         8938

आईटी, इलेक्ट्रॉनिक्स             2815

फूड प्रोसेसिंग                        2401

एजुकेशन, स्किल डिवेलपमेंट 1902

आयुष एडं हैल्थ केयर            1641

..और गुल हो गई बत्ती

भारी बारिश होने की वजह से पुलिस ग्राउंड पूरी तरह तालाब में परिवर्तित हो गया था। यहां एक सम्मेलन कक्ष में ऊर्जा क्षेत्र में निवेश पर चर्चा शुरू हुई और चर्चा शुरू होते ही बत्ती गुल हो गई। यहां बिजली की तारों में फॉल्ट आ जाने से सम्मेलन कक्ष में बिजली नहीं थी। इस कारण अधिकारियों को शुरुआत में करीब एक घंटे तक ऊंचा बोलकर बात रखनी पड़ी। इस दौरान चर्चा होने लगी कि ऊर्जा पर सम्मेलन में ऊर्जा ही नहीं है, इसे लेकर यहां ठहाके भी लगे। अहम बात यह थी कि जो लोग सम्मेलन में पहुंचे थे, वे यहीं डटे रहे।

शाह के न आने की सूचना मिलने पर सुस्ताई पुलिस

दोपहर बाद जब बारिश ने खूब तांडव किया, तो लग रहा था कि अमित शाह शायद ही पहुंचेंगे, क्योंकि मौसम का मिजाज बिगड़ गया था। हुआ भी ऐसा ही और जैसे ही इसकी सूचना फैली, तो  पुलिस कर्मचारी भी सुस्ताने लगे। उन्हें पता था कि अब सुरक्षा व्यवस्था में उतनी मुस्तैदी नहीं चाहिए। इतना ही नहीं जैसे ही पीयूष गोयल निकले, उनके साथ कई पुलिस कर्मचारियों की डयूटी भी ऑफ हो गई। अधिकांश लोग कार्यक्रम समाप्त होते ही धर्मशाला से कूच कर गए।

अनुराग का मौके पर चौका

अनुराग ठाकुर सरकार द्वारा आवभगत नहीं होने से कुछ नाराज से दिख रहे थे, लेकिन आखिर में उनकी नाराजगी शायद दूर हो गई। उन्हें पीयूष गोयल से पहले भाषण का मौका मिला, तो उन्होंने सभी कुछ गिना दिया। उन्होंने कहा कि प्रो. प्रेम कुमार धूमल की सरकार में हिमाचल को स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी से विशेष औद्योगिक पैकेज मिला था। इतना ही नहीं, उन्होंने खुद धर्मशाला में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैदान बनवाया है।