Friday, December 13, 2019 07:28 PM

टे्रंक्यूलाइजर गन है, चलाने वाला नहीं

ऊना में कर्मी का तबादला होने से बढ़ी दिक्कत, जल्द तैनात किया जाए मुलाजिम

ऊना जिला ऊना के अंतर्गत जंगली जानवरों पर नकेल कसने के लि यूज की जाने वाली टें्रक्यूलाइजर गन तो है लेकिन इसे चलाने वाला अब कोई भी नहीं है। हालांकि इससे पहले भी जिला में केवल मात्र एक ही प्रशिक्षित कर्मी इस गन को चलाने वाला था, लेकिन अब इस कर्मी का तबादला भी कर दिया गया है। इसके चलते अब ऊना जिला में कोई भी कर्मी इस गन को चलाने के लिए प्रशिक्षित नहीं है। ऐसा नहीं हो कि जो टें्रक्यूलाइजर यहां पर है वह बिना प्रशिक्षित कर्मी के अब शोपीस बन जाए। इसके चलते सरकार, जिला प्रशासन को उचित कदम उठाने चाहिए। जिला में अधिकतर आवारा पशु देखे जा सकते हैं। यह आवारा पशु अधिकतर हादसे का कारण बन रहे हैं। वहीं, कई बार पशुओं के उपचार व कई पशुओं को पकड़ने के लिए टें्रक्यूलाइजर गन का प्रयोग करने पड़ता है। अधिकतर इसका प्रयोग किया जाता है, लेकिन अब  जिला में यह गन तो है, लेकिन इसका प्रयोग करने के लिए प्रशिक्षित कर्मी नहीं है। इसके चलते आपात स्थिति में अब समस्या उत्पन्न हो सकती है। हालांकि राष्ट्रीय एकता मंच के संयोजक एवं समाजसेवी सुरेंद्र रात्रा द्वारा यह मामला कई बार उठाया गया है। इसके चलते तत्कालीन उपायुक्त ने तीन और टें्रक्यूलाइजर गन खरीददने का आश्वासन दिया था, लेकिन अभी तक हकीकत में कुछ भी नहीं हो पाया है। सुरेंद्र रात्रा का कहना है कि प्रशासन को इस ओर उचित कदम उठाने चाहिए। उन्होंने कहा कि इस इसके लिए कर्मियों को प्रशिक्षित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि टाहलीवाल क्षेत्र में कई दिनों से एक बैल उपचार मुहैया करवाने के लिए बेहोश करने की आवश्यकता है। इसके लिए संबधित विभाग से भी संपर्क किया गया है, ताकि इस ओर उचित कदम उठाए जा सके। उन्होंने जिला प्रशासन से भी आग्रह किया है कि इस समस्या के स्थायी समाधान के लिए शीघ्र ही उचित कदम उठाए जाएं, ताकि लोगों को किसी समस्या का सामना न करना पड़े।