Monday, June 01, 2020 01:50 AM

डब्ल्यूएचओ में सुधार हो

-राजेश कुमार चौहान, सुजानपुर टीहरा

कुछ समय पहले अमरीका के राष्ट्रपति ने डब्ल्यूएचओ की फंडिंग रोकने की गुहार लगाई थी, लेकिन वैश्विक महामारी के खतरनाक माहौल में किसी भी देश को ऐसा कुछ नहीं करना चाहिए जिससे कोरोना के खिलाफ लड़ाई में कोई बाधा उत्पन्न हो। बेशक डब्ल्यूएचओ से कुछ गलतियां कोरोना को लेकर हुई हों। कोविड-19 महामारी के प्रति डब्ल्यूएचओ की भूमिका निराशाजनक रही। डब्ल्यूएचओ का ढुलमुल रवैया रहा, तभी तो चीन से अस्तित्व में आई कोरोना की महामारी सारी दुनिया के लिए आफत बनी। अब कोविड-19 से सारी दुनिया को सबक लेते हुए डब्ल्यूएचओ की कमियों और कमजोरियों को दूर करने के उपाय गंभीरता से करने चाहिए।