Tuesday, November 19, 2019 04:05 AM

डलहौजी में बिछी सफेद चादर

डैनकुंड के पोहलानी माता मंदिर के साथ लक्कड़मंडी और कालाटोप में बर्फबारी, पर्यटकों की खिली बांछें

डलहौजी -पर्यटन नगरी डलहौजी में गुरुवार रात्रि बिगड़े मौसम के मिजाज से ऊपरी क्षेत्रों में बर्फ  की सफेद चादर बिछ गई है, जबकि निचले क्षेत्रों में आसमानी गर्जना के साथ मूसलाधार बारिश हुई है। डलहौजी के डैनकुंड स्थित पोहलानी माता मंदिर में चार से पांच ईंच ताजा बर्फबारी रिकार्ड गई है। इसके साथ ही लक्कड़मंडी व कालाटोप में भी बर्फबारी हुई है। बर्फबारी के कारण डलहौजी- खजियार मार्ग पर यातायात भी बाधित होकर रह गया है। लोक निर्माण विभाग की लेबर मार्ग से बर्फ  हटाकर यातायात बहाली में जुट गई है। ऊपरी क्षेत्रों में बर्फबारी के चलते डलहौजी में ठंड का प्रकोप भी बढ़ गया है, जबकि होटल कारोबारी बर्फबारी को कारोबार के लिए शुभ संकेत मान रहे हैं। जानकारी के अनुसार गुरुवार रात्रि को डलहौजी के ऊपरी हिस्सों पर बर्फबारी व निचले क्षेत्रों में व्यापक बारिश हुई। शुक्रवार को ऊपरी क्षेत्रों में बर्फबारी की सूचना पाते ही डलहौजी घूमने आए पर्यटकों की बांछंे खिल गईं। उन्होंने ठंड से बेपरवाह होकर लक्कडमंडी पहंुचकर बर्फबारी में अठखेलियां करने का जमकर लुत्फ उठाया। गुरुवार को बर्फबारी के बाद बढ़ी ठंड के चलते स्थानीय लोग ठंड से बचने के लिए अलाव व हीटर सेंकते नजर आए। डलहौजी के होटल कारोबारियों की मानें तो बर्फबारी विंटर सीजन के लिए वरदान साबित होगी। आगामी दिनों में बर्फबारी देखने की चाहत में पर्यटकों के डलहौजी का रुख करने से मंदी की मार से राहत मिलने की उम्मीद है।

खजियार में भी गिरे बर्फ के फाहे

डलहौजी। पर्यटन स्थल खजियार में भी हल्की बर्फबारी रिकार्ड की गई है। शुक्रवार सुबह देवदार के हरे-भरे पेड़ों से घिरी हरी मखमली घास वाला खज्जियार पूरी तरह आसमान से गिरी चांदी से लिपटा नजर आया। लोगों की मानें तो काफी अरसे बाद नवंबर माह में बर्फबारी हुई है। बहरहाल, डलहौजी के उपरी हिस्सों व खज्जियार में गुरुवार रात्रि बिछी बर्फ  की सफेद चादर से निचले क्षेत्र में ठंड का प्रकोप बढ़ गया हैै।