Friday, December 06, 2019 09:56 PM

डाक्टर आलोक-विनय को राष्ट्रीय पुरस्कार

गायनी में बेहतर प्रयास पर मिला वंडर डाक्टर अवार्ड

शिमला  - हिमाचल के डा. आलोक शर्मा को फोग्सी यानी फेडरेशन ऑफ ऑबस्ट्रिक गायनीकोलॉजिकल सोसायटी ऑफ इंडिया की ओर से वंडर डाक्टर अवार्ड दिया गया है। इन्हें यह पुरस्कार महिला रोग में जागरूकता ग्राफ बढ़ाने के लिए दिया गया है। डा. आलोक ने बताया कि प्रदेश में सर्विक्स कैंसर के प्रति महिलाआें को जागरूक करना बेहद आवश्यक है। प्रदेश सरकार से यह आग्रह है कि प्रदेश में लगभग सभी अस्पतालों में महिला सर्विक्स कैंसर का टेस्ट शुरू करवाया जाना चाहिए। यह एक ऐसा पेप टेस्ट है, जिससे यह पता चल जाता है कि महिला को सर्विक्स कैंसर है या नहीं। उन्होंने कहा कि महिलाआें को कैंसर के लक्षण के बारे में जागरूक करना जरूरी है। डा. आलोक कहते हैं कि उन्होंने पूरी कोशिश कि है कि विभिन्न जागरूक कार्यक्रम के माध्यम से महिलाएं, महिला रोगों के बारे में जाने और समय पर अस्पताल आए। डा. आलोक ने कई जटिल सर्जरी भी की है। डा. आलोक सुंदरनगर सिविल अस्पताल में सीनियर विशेषज्ञ हैं। उन्होंेने कहा कि प्रदेश में गायनी के विशेषज्ञों की काफी कमी है, इसके लिए आवश्यक है कि प्रदेश सरकार डाक्टरों की सेवाएं दो वर्षों के लिए हिमाचल में सेवाएं देने की शर्त रखें।

उत्कृष्ट कार्य पर सर्वश्रेष्ठ  वैज्ञानिक विवेचना सम्मान

शिमला  - डेंटल कालेज शिमला के पब्लिक हैल्थ डेंटिस्ट्री विभाग के आचार्य एवं विभागाध्यक्ष प्रो. विनय भारद्वाज को सर्वश्रेष्ठ वैज्ञानिक विवेचना एवं प्रस्तुति पुरस्कार से सम्मानित किया गया। यह सम्मान इंडियन एसोएिशन ऑफ पब्लिक हैल्थ डाक्यूमेंटरी के 24वें राष्ट्रीय सम्मेलन, जो कि हैदराबाद में 15 व 17 नवंबर तक आयोजित किया गया था, में दिया गया। उन्होंने आयोजकों द्वारा उत्कृष्टता प्रमाणपत्र एवं स्मृति चिन्ह भेंट किया गया। डा. विनय भारद्वाज ने विश्व स्वास्थ्य संगठन के संयुक्त तत्त्वावधान में यह शोध किया था, जिसमें पाया गया कि सिगरेट पैकेट के ऊपर जो चेतावनी के लिए चित्र होता है, उसको देखकर लोगों में तंबाकू व सिगरेट छोड़ने की इच्छा जागृत होती है। इसके अलावा इस शोध में यह बात भी ध्यान में आई कि बार-बार लोगों को तंबाकू व सिरगेट के प्रयोग के स्वास्थ्य के ऊपर दुष्प्रभाव के बारे में जागरूकता करने से लोग इस नशा को छोड़ने के बारे प्रेरित हो रहे हैं। डा. विनय भारद्वाज ने पूर्व में भी स्विट्जरलैंड, स्पेन, थाइलैंड में शोधपत्र प्रस्तुति में अवार्ड जीत कर डेंटल कालेज शिमला व हिमाचल प्रदेश का नाम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर डेंटल हैल्थ केयर एंड  प्रिवेशन में ऊंचा किया है।