Friday, November 16, 2018 11:14 PM

डा. जी सतीश रेड्डी डीआरडीओ के नए अध्यक्ष

जन्म : 1 जुलाई, 1963  नेल्लोर जिला

पुरस्कार : रजत पदक

शिक्षा : जवाहरलाल नेहरू टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी, अनंतपुर

केंद्र सरकार ने डा. जी सतीश रेड्डी को रक्षा मंत्रालय के रक्षा अनुसंधान और विकास विभाग का सचिव और रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) का अध्यक्ष नियुक्त किया है। डा. जी सतीश रेड्डी ने इससे पहले जून, 2015 में रक्षा मंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार का पदभार संभाला था। डा. रेड्डी हैदराबाद स्थित जवाहरलाल नेहरू प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (जेएनटीयू) से इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन में इंजीनियरिंग में स्नातक हैं।

उन्होंने जेएनटीयू से ही एमएससी और पीएचडी की है। डा. जी सतीश रेड्डी हैदराबाद स्थित अनुसंधान केंद्र इमारत (आरसीआई)में निदेशक के रूप में कई रक्षा परियोजनाओं और कार्यक्रमों की कमान संभाल चुके हैं। डा. रेड्डी को भारत में मिसाइल प्रणाली के अनुसंधान और विकास के साथ अंतरिक्ष विज्ञान की कई तकनीकों के विकास में योगदान लिए जाना जाता है। डा. सतीश रेड्डी को डीआरडीओ के अध्यक्ष के पद पर दो सालों के लिए नियुक्त किया गया है। इस साल मई में एस क्रिस्टोफर का कार्यकाल पूरा होने के बाद से यह पद खाली था।

इसी साल तमिलनाडु की सत्ताधारी पार्टी (एआईएडीएमके) से अलग होकर टीटीवी दिनाकरण ने एएमएमके बनाई है, अब डीएमके को लेकर भी ऐसे ही संकेत मिल रहे हैं। तमिलनाडु के मुख्य विपक्षी दल डीएमके (द्रविड़ मुनेत्र कड़गम) की कमान औपचारिक तौर एमके स्टालिन के हाथ में आ गई।

चेन्नई स्थित डीएमके मुख्यालय में मंगलवार को पार्टी की सामान्य सभा की बैठक हुई जिसमें उन्हें निर्विरोध अगला अध्यक्ष चुन लिया गया। 4 जून, 2015 को प्रसिद्ध वैज्ञानिक डा. जी सतीश रेड्डी ने रंक्षा मंत्री के 12वें वैज्ञानिक सलाहकार का पदभार संभाला।

गौरतलब है कि रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन  (ष्ठक्त्रष्ठहृ) के प्रमुख मिसाइल वैज्ञानिक डा. रेड्डी ने नौवहन और वैमानिकी प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अहम योगदान दिया है। उन्होंने अनुसंधान केंद्र इमरात (क्त्रष्टढ्ढ) के निदेशक के रूप में कई रक्षा परियोजनाओं और कार्यक्रमों का मार्गदर्शन किया और महत्त्वपूर्ण प्रौद्योगिकी के विकास के लिए आवश्यक प्रेरणा दी। डा. रेड्डी इस पद पर 2 वर्ष के लिए कार्यरत रहेंगे।