Saturday, August 15, 2020 01:04 PM

डीसी ऋग्वेद बोले, महंगी पडें़गी अफवाहें

मंडी - कोरोना वायरस को लेकर सरकार व प्रशासन बेशक लोगों को कितना भी जागरूक कर रहा हो, लेकिन लोग अफवाहें फैलाने और उन्हें मानने से पीछे नहीं हट रहे हैं। ऐसा ही एक मामला मंडी शहर में सामने आया। जहां विदेश से लौटे एक व्यक्ति व उसके पूरे परिवार के कोरोना पाजिटिव होने की अफवाह कुछ शरारती लोगों ने फेला दी। इस शख्स के घर के बाहर प्रशासन द्वारा लगाए गए होम क्वारंटाइन के स्टीकर का इस्तमाल करते हुए शरारती लोगों ने सोशल मीडिया पर पूरे परिवार को कोरोना पॉजिटिव घोषित कर दिया और कहा कि इन लोगों को अस्पताल में भर्ती करवाया गया। इस अफवाह के फैलते ही प्रशासन तक हड़कंप मच गया और उपायुक्त को भी जांच के आदेश देने के साथ ही मामले में सफाई देनी पड़ी। बता दें कि बंगला मुहल्ला में मस्कट से लोटे मनीष कुमार के परिवार को लेकर यह अफवाह फैलाई गई। जबकि मनीष और उनका पूरा परिवार घर सही सलामत है। मनीष कुमार ने बताया कि वह 14 तारीख को मंडी पहुंचे थे और 14 दिन बीतने के बाद भी पूरी तरह से स्वस्थ हैं। उन्होंने कहा कि शुक्रवार सुबह से ही एक अफ वाह फैलाई दी गई कि मैरे पूरे परिवार को अस्पताल भर्ती करवा दिया गया है। उन्होंने कहा कि मैरे घर के मेरे नाम से प्रशासन द्वारा एक स्टीकर लगाया गया है। जिसमें यह लिखा गया है कि मैं विदेश से आया हूं और होम क्वारंटाइन हूं, लेकिन लोग इसका गलत मतलब निकाल रहे हैं और अफवाहें फैला रहे हैं। वहीं उपायुक्त मंडी ऋग्देव ठाकुर ने बताया कि मामला ध्यान में आया है। मनीष कुमार पूरी तरह से स्वस्थ हैं। प्रशासन द्वारा स्टीकर सिर्फ लोगों को जागरुक करने के लिए लगाए हैं ताकि लोग होम क्वारंटाइन की अवधि के दौरान विदेश से आए लोगों से दूर रहे। उन्होंने कहा कि ऐसे स्टीकर जिस पर घर के बाहर लगाए गए हैं, उसका मतलब यह बिलकुल नहीं है कि उक्त व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव है। इसलिए लोग अफवाहों पर न जाए। पुलिस से इस मामले की जांच करवाई जा रही है।

केंद्र सरकार लोगों को बैंक किस्तें चुकाने में दे राहत

रिवालसर । कोरोना वायरस को लेकर लॉकडाउन के चलते व्यापारी वर्ग, टैक्सी आपरेटर्र्ज व अन्य कारोबारियों सहित आम लोगों के हाथ खड़े हो गए है। इन लोगों ने केंद्र सरकार से मांग की है कि सरकारी व निजी बैंकों फ ाइनेंस एजंसियों को आदेश जारी करें कि जब तक देश में हालात सामान्य नहीं हो जाते तब तक लोगों से किसी भी प्रकार की ऋ ण सबंधी बैंक किस्तें न लें। बैंक चौकों के माध्यम से काटा जाए। रिवालसर व्यापार मंडल के प्रधान ढ़मेश्वर ठाकुर व लोमस टैक्सी यूनियन रिवालसर के प्रधान तेज सिंह ने जारी सयुंक्त बयान में कहा है कि लॉकडाउन का असर आम जनमानस पर पड़ा है। लोगों ने अपने रोजगार को लेकर सरकारी व निजी बैंकों से ऋण लेकर कारोबार चलाया था जो अब पूरी तरह से ठप हो गया है जो थोड़ा बहुत धन बैंकों में जमा है उससे परिवार का गुजारा करना भी अब मुश्किल होगा। इसलिए सभी बैंक सामान्य हालात का इंतजार करते हुए आम जनमानस को राहत दें।