Sunday, July 12, 2020 02:28 PM

डीसी बोले, हां! चूक हुई है

 हमीरपुर – वैश्विक महामारी कोरोना को लेकर शुरू से ही सुर्खियों में रहा हमीरपुर जिले का स्वास्थ्य महकमा और यहां की व्यवस्था एक बार फिर सवालों के घेरे में आ गई है। मामला जिला के विभिन्न क्षेत्रों से ताल्लुक रखने वाले उन 43 लोगों का है। इनकी कोरोना रिपोर्ट को नेगेटिव बताकर पहले उन्हें घर भेज दिया गया लेकिन बुधवार रात को जैसे ही इनमें से 15 लोगों के पॉजिटिव होने का खुलासा हुआ तो मध्यरात्रि बाद इन मरीजों को तलाश कर फिर से क्वारंटाइन सेंटरों में लाया गया। हालांकि डीसी हमीरपुर ने इस मामले को बड़ी चूक बताते हुए जांच के आदेश दिए हैं, लेकिन इस लापरवाही ने कोविड-19 की व्यवस्थाओं में लगे जिला प्रशासन और स्वास्थ्य महकमे के अलावा तमाम विभागों की कार्यप्रणाली को कटघरे में लाकर खड़ा कर दिया है। 18 मई को मुंबई से आए जिला से ताल्लुक रखने वाले लोगों को जिला के विभिन्न संस्थागत क्वारंटाइन केंद्रों में रखा गया था। इनके सैंपल 19 मई को जांच के लिए भेजे गए थे। भोरंज स्थित डुंगरी क्वारंटाइन सेंटर से भी इनमें कुछ लोग थे। 21 मई को इनमें से अधिकतर की रिपोर्ट नेगेटिव आई तो 25 मई को दोबारा फालोअप के लिए सैंपल जांच को भेजे गए। 26 मई रात को जो रिपोर्ट आई उनमें सात व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए। बाकी बचे 43 लोगों को 27 मई को दोपहर बाद होम क्वारंटाइन होने के लिए घर भेज दिया गया। इनमें बड़सर, भोरंज, नादौन और हमीरपुर क्षेत्र से लोग थे। 27 मई की रात को जब सैंपल की रिपोर्ट आई, तो इन 43 लोगों में 15 नाम वो भी आए जिनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। फिर क्या था उसके बाद स्वास्थ्य महकमा और पूरा प्रशासन हक्का-बक्का रह गया। क्योंकि ये लोग घरों में जा चुके थे और स्वभाविक था कि अपने घरवालों और आस-पड़ोस वालों से भी मिले होंगे। आधी रात होने वाली थी फिर क्या था मेडिकल टीमें मरीजों को तलाशने में जुट गईं और सुबह होते-होते सभी 15 मरीजों को एनआईटी हमीरपुर में लाकर क्वारंटीन किया गया। एक ऐसी बीमारी जिसके लिए सोशल डिस्टेंसिंग होने की बार-बार चेतावनी दी जाती है उसमें इतनी बड़ी लापरवाही ने सारी व्यवस्थाओं को कटघरे में लाकर खड़ा कर दिया है।

मामले की हो रही जांच

डीसी हमीरपुर हरिकेश मीणा ने कहा कि चूक हुई है, लेकिन कहां हुई है इसका पता लगाने के लिए जांच करवाई जाएगी। सभी लोग जो घर भेजे गए हैं उनके जितने भी प्राइमरी और सेकेंडरी कांटेक्ट हैं उनका पता लगाया जा रहा है और सबकी सैंपलिंग करवाई जाएगी। मामले की जांच में जिस भी ऐंड पर चूक हुई है वहां नियमानुसार कार्रवाई होगी।

पहले भी हो चुकी है ऐसी चूक

आपको बता दें कि नादौन उपमंडल के गलोड़ में दिल्ली से आया जब एक व्यक्ति पॉजिटिव निकला था, तो उससे अगले दिन सुबह पुलिस प्रशासन की ओर से बयान जारी किया गया था कि वहां तीन और लोग पॉजिटिव आए हैं जिनमें एक महिला और दो बच्चे हैं। ऐसा कहा गया था कि ये लोग उनके घर दूध लाने जाते थे। यह खबर कुछ ही पलों में पूरे प्रदेश में फैल गई थी लेकिन प्रशासन ने जल्द ही इस भूल को सुधारते हुए लिखित में बयान जारी किया था कि यह सूचना गलत है।

The post डीसी बोले, हां! चूक हुई है appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.