Friday, October 18, 2019 04:57 PM

डेढ़ करोड़ से बनेगा साइंस ब्लॉक

जंजैहली स्कूल में राज्य स्तरीय खेलों के शुभारंभ पर सीएम का खुलासा

थुनाग -जंजैहली में लड़कियों की राज्य स्तरीय अंडर-19 खेलों के शुभांरभ के साथ मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने स्कूल के साथ क्षेत्र को कई सौगातें दीं। इस दौरान उन्होंने कहा कि जंजैहली क्षेत्र को पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला जंजैहली में विज्ञान खंड का निर्माण करने के लिए 1.50 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। उन्होंने पाठशाला की चारदीवारी के लिए 10 लाख रुपए देने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि जंजैहली में संयुक्त कार्यालय भवन का निर्माण किया जाएगा। इससे जंजैहली के सभी कार्यालय एक छत के नीचे कार्य कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि स्थानीय लोगों व पर्यटकों की सुविधा के लिए जंजैहली में टैक्सी स्टैंड का निर्माण किया जाएगा। अस्पताल परिसर और स्कूलों के लिए 20 सोलर लाइट्स उपलब्ध करवाई जाएंगी। उन्होंने कहा कि जंजैहली में इंडोर स्टेडियम के निर्माण के लिए प्रयास किए जाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि जंजैहली के नागरिक अस्पताल में वर्धमान ग्रुप द्वारा 18 लाख रुपए की लागत से अल्ट्रासाउंड की सुविधा मुहैया करवाई गई है, जिससे क्षेत्र के 70 हजार से अधिक लोगों को लाभ होगा। जयराम ठाकुर ने शिकारी माता उत्कृष्ट माता योजना के तहत क्षेत्र के उत्कृष्ट विद्यालय के विजेताओं को पुरस्कार भी वितरित किए तथा गृहिणी सुविधा योजना के लाभार्थियों को निःशुल्क गैस कनेक्शन भी बांटे। बाद में उन्होंने बाखली खड्ड पर 2.21 करोड़ रुपए से बनने वाले वाहन योग्य पुल का शिलान्यास भी किया। सहायक निदेशक शिक्षा पीएस धौलटा ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया और खेलों के दौरान आयोजित की जाने वाली विभिन्न गतिविधियों की रिपोर्ट प्रस्तुत की। उन्होंने कहा कि लगभग 693 लड़कियां खेलों में हिस्सा ले रही हैं। इस अवसर पर उपायुक्त मंडी ऋग्वेद ठाकुर, पुलिस अधीक्षक गुरदेव शर्मा, मुख्य अभियंता सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग तथा लोक निर्माण विभाग, स्थानीय पाठशाला के प्रधानाचार्य राजिंद्र कुमार, मंडल भाजपा अध्यक्ष शेर सिंह ठाकुर सहित अन्य उपस्थित थे।

आधा घंटा खड़े-खड़े ही सुन ली शिकायतें

मुख्यमंत्री ने थुनाग में मंडल कार्यक्रम के बाद खड़े-खड़े करीब आधे घंटे तक आम लोगों की शिकायतें सुनीं। मुख्यमंत्री स्टेज पर ही लोगों की शिकायतें सुनते रहे और लोगों की समस्या पर विचार करते रहे। जनसभा को संबोधित करने के बाद मुख्यमंत्री जैसे ही मंच से अपनी गाड़ी की तरफ आ रहे थे वैसे ही लोग उनकी तरफ  दौड़ पड़े और अपनी समस्या बताने लगे। इसी को लेकर काफी सारे लोग उनके सामने खड़े हो गए। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर करीब आधे घंटे तक लोगों की समस्या को खड़े-खड़े ही सुनते रहे। मुख्यमंत्री ने 300 लोगों की शिकायतें सुनीं और मांग पत्र लिए।