Monday, September 16, 2019 08:19 PM

तपोवन चिन्मय आश्रम में ‘उठो और जगमगाओ’

अमृता विद्यापीठ ने व्यक्तित्व विकास पर लगाया राष्ट्रीय युवा शिविर ‘समर्पण-2019’

कांगड़ा - जिला मुख्यालय धर्मशाला के समीपवर्ती सिद्धबाड़ी के तपोवन चिन्मय आश्रम में अमृता विश्वा विद्यापीठ युवा संभाग आयुध (अमृता युवा धर्मधारी) के तत्त्वावधान में राष्ट्रीय युवा शिविर समर्पण-2019 का आयोजन किया गया। इस शिविर में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, चंडीगढ़ तथा देश से बाहर अफगानिस्तान के विद्यार्थियों ने भाग लिया। शिविर में युवाआें के सर्वांगीण व्यक्तित्व विकास को लेकर ‘उठो और जगमगाओ’ विषय के तहत जागरूक किया गया। इसमें युवाआें को सामूहिक प्रतिभागिता, आत्मविश्वास का संवर्द्धन, नेतृत्व क्षमता का आधारभूत ज्ञान, भारतीय संस्कृति एवं नैतिक मूल्यों के प्रति जागरूकता, वर्जनाआें को तोड़ने की क्षमता विकसित करना तथा स्व संकुचित सीमाओं से परे हटते हुए परहित मानवतावाद की भावना को पैदा करना शिविर का उद्देश्य है।  इस कार्यक्रम की प्रभारी (प्रोफेसर इन चार्ज) शहीद कै. विक्रम बतरा राजकीय महाविद्यालय की डा. आसु फुल्ल ने बताया कि तपोवन में शिविर का उद्घाटन चिन्मय आश्रम के आचार्य प्रवर ने किया। उन्होंने युवाआें से अपने निजी अनुभवों को साझा किया। साथ ही उन्होंने सनातन धर्म के नियमों तथा अपेक्षाआें के अनुपालन करने की प्रेरणा दी। शिविर के समन्वयक नरेंद्र आनंद तथा श्वेता आनंद ने भी विद्यार्थियों को विभिन्न योग क्रियाआें का प्रशिक्षण दिया। उन्होंने कहा कि येग क्रियाआें और अवधान एकाग्रता लाते हुए आधुनिक परिवेश की देन मानसिक दबाबों, बैचेनी, तनावों को कम करने में सहायक होते हैं। शिविर के दौरान कै. विक्रम बतरा राजकीय महाविद्यालय के कार्यकारी प्राचार्य डा. सुजीत सरोच ने विद्यार्थियों को आत्मरक्षा के लिए मार्शल आर्ट के टिप्स दिए। इसके अलावा शिविर की अन्य गतिविधियों के दौरान स्वच्छता अभियान, पौधारोपण, प्रकृति के सान्निध्य में मौन चहल-कदमी सहित सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए गए। कार्यक्रम की प्रभारी डा. फुल्ल ने बताया कि शिविर के दौरान विद्यार्थियों को पुलिस अधीक्षक कांगड़ा विमुक्त रंजन तथा जिला कारागार धर्मशाला के उप-अधीक्षक विनोद चंबियाल ने तनावमुक्त जीवन के लिए टिप्स दिए। शिविर में भाग ले रहे विद्यार्थियों ने तीन दिनों तक मोबाइल फोन का प्रयोग न करने का भी संकल्प लिया था।