Wednesday, October 16, 2019 02:01 AM

…ताकि मूरंग में दौड़ आएं सैलानी

रिकांगपिओ  -किन्नौर जिला के पूह उपमंडल के मूरंग पंचायत में गुरुवार को श्यामा प्रसाद मुखर्जी रूरल मिशन के तहत पर्यटन पर्व व स्वच्छता महोत्सव का आयोजन किया गया। इस दौरान विधायक किन्नौर जगत सिंह नेगी सहित खंड विकास अधिकारी पूह व क्षेत्र के विभिन्न पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधि मुख्य रूप से उपस्थित थे। इस अवसर पर विधायक किन्नौर जगत सिंह नेगी ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी द्वारा स्वच्छता के प्रति लोगों में जागरूकता लाने को  एक बड़ा कदम बताते हुए उन के आदर्शों पर चलने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि आज भी देश-विदेशों में भी उन्हें याद किया जाता है। उन्होंने आने विचारों से देश को आजादी दिलाई। श्री नेगी ने लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक रहने के लिए भी प्रेरित किया  इस अवसर पर खण्ड विकास अधिकारी पूह विजय कांत नेगी ने रूरल मिशन के तहत आयोजित पर्यटन पर्व व स्वच्छ महोत्सव कार्यक्त्रम की जानकारी देते हुए कहा कि राष्ट्रीय रूर्बन मिशन का मुख्य उद्ेश्य स्थानीय आर्थिक विकास को सुदृढ़ करना तथा आधार भूत सुविधाओ में वृद्धि कर योजनाबद्ध तरीके से रूर्बन क्लस्टरों का  सृजन कर समग्र विकास सुनिश्चित करना है। उन्होंने बताया कि जिला में रूरल मिशन के तहत दो क्लस्टर स्वीकृत किए गए है, जिनमें सांगला व मूरंग क्लस्टर शामिल हैं । उन्होंने कहा कि इस के लिए एक समेकित क्लस्टर योजना तैयार की जा रही है, ताकि इन क्षेत्रों में आर्थिक कार्यक्लापों से जुडा प्रशिक्षण कौशल को बढ़ावा दिया जा सके। उन्होंने लोगों से प्लास्टिक का अपने दैनिक दिनचर्या में कम से कम उपयोग करने का भी आह्वान किया। प्लास्टिक का पर्यावरण पर सब से अधिक बुरा प्रभाव पड़ रहा है । इसके कारण जहां भूमि की उर्वरता क्षीण हो रही है वहीं अन्य जीव-जंतुओं पर भी बुरा प्रभाव पड़ रहा है। उन्होने लोगो से एक बार प्रयोग होने वाले प्लास्टिक का वस्तुओं का प्रयोग न करने का भी आग्रह किया। इस अवसर पर उन्होने उपस्थित महिला मंडल के सदस्यों, स्कूली बच्चों, पंचायती राज संस्थान के जन प्रतिनिधियो सहित उपस्थित जन समूह को स्वच्छता की शपथ दिलाई।

हस्तशिल्प उत्पादों, पारंपरिक व्यंजनों की सजी प्रदर्शनी

इस दौरान महिला मंडल के सदस्यों व स्कूलों बच्चों द्वारा स्वच्छता के प्रति जागरूकता के लिए जागरूकता रैली भी निकाली गई।   इस दौरान महिला मंडलों व स्कूली बच्चों द्वारा रंगारंग कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया। स्थानीय महिला मंडलों द्वारा हस्त शिल्प उत्पादों, पारंपरिक व्यंजनों व स्थानीय उत्पादों की प्रदर्शनी  लगाई ।