Monday, September 23, 2019 01:56 AM

तीन बिस्वा के साथ खेती करने को दें भूमि

पीडि़तों की समस्या सुनने के बाद पूर्व सीएम ने सरकार के समक्ष मुद्दा उठाने का दिया आश्वासन

घुमारवीं -साहब...न रहने के लिए घर रहा और न खेतीबाड़ी के लिए बची जमीन। रोजगार का विकट संकट सामने खड़ा हो गया है...यह दुखड़ा बुधवार को कठलग (करयालग) गांव में भू-स्खलन से प्रभावितों ने हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल के समक्ष सुनाया। भू-स्खलन प्रभावितों की व्यथा सुनकर पूर्व मुख्यमंत्री भी दुखी हो गए। उन्होंने प्रभावितों को आश्वासन दिया कि खेती बाड़ी को जमीन उपलब्ध करवाने के लिए  सरकार से बात की जाएगी।  जानकारी के मुताबिक बुधावार को पूर्व मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल कसारू पंचायत के कठलग (करयालग) गांव में भूस्खलन से प्रभावित परिवारों का हाल जानने पहुंचे। उन्होंने मौके पर लोगों की समस्याओं को सुना तथा तत्काल हल करने का भी आश्वासन दिया। इस अवसर पर उपायुक्त बिलासपुर राजेश्वर गोयल, एसडीएम  घुमारवीं शशि पाल शर्मा  से फोन पर बातचीत की तथा उनसे आग्रह किया कि पीडि़त परिवारों को सरकार हरसंभव सुविधाएं मुहैया कराने में प्राथमिकता दे। उन्होंने प्रदेश सरकार से आग्रह किया कि पीडि़त परिवारों को न केवल मात्र तीन बिस्वा भूमि दी जाए, बल्कि उन्हें कृषि योग्य भूमि भी मुहैया कराई जाए तथा इस मामले में यदि नौतोड़ भूमि योजना से भी इन्हें लाभ देने की जरूरत पड़े तो अवश्य दें। उन्होंने इस अवसर पर प्रशासन व स्थानीय लोगों की भी जमकर प्रशंसा की जिन्होंने पीडि़त परिवारों को हरसंभव सुविधाएं जुटाने में सहयोग किया। उन्होंने इस अवसर पर पीडि़त परिवारों से उनका दुख सांझा किया, वहीं घटनास्थल पर जाकर जमीन का भी मुआयना किया। पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल के साथ मंडल अध्यक्ष घुमारवीं नरेंद्र ठाकुर, सुरेश ठाकुर, नवीन शर्मा, भाजपा मीडिया प्रभारी महेंद्र पाल रतवान, सुरेंद्र कौशल, रविंद्र कुमार, अशोक महाजन, राम प्रकाश, कपिल देव, पंकज चंदेल, दिनेश ठाकुर व अन्य उपस्थित रहे।

पूर्व विधायक राजेश धर्माणी ने जाना प्रभावितों का हाल

लैंड स्लाइडिंग से प्रभावित हुए कठलग व कुठाकर गांव के लोगों का हाल जानने के लिए पूर्व विधायक राजेश धर्माणी मंगलवार रात को करयालग गांव में पहुंचे। पूर्व विधायक ने उनकी बातों को सुना तथा उन्हें अपनी ओर से हरसंभव मदद देने का आश्वासन दिया।