Thursday, July 16, 2020 06:40 PM

थर्मल स्कैनर दो मीटर की दूरी से करेगा अलर्ट

शिमला -शिमला स्थित आईजीएमसी अस्पताल में अब थर्मल स्कैनर मशीन दो मीटर से कोरोना पॉजिटिव मरीज की पहचान करेंगी। आईजीएमसी में शनिवार से इस मशीन को चालू कर दिया है। अहम यह है कि थर्मल स्कैनर मशीन लगने के बाद आईजीएमसी में 48 घंटे के दौरान कौन अंदर आया, और कौन बाहर आया, यह सब फोटाग्राफी सहित रिकार्ड रहेगा। इसके साथ ही इस मशीन के लगने के बाद अस्पताल में एंट्र करने वाले हर व्यक्ति का तापमान दो मीटर की दूरी से ही पता लगाया जा सकेंगा। अगर अस्पताल में आने वाला कोई व्यक्ति मास्क पहनकर नहीं आया है, या फिर किसी ने मास्क गलत पहना है, तो यह सब कुछ वह अलर्ट करेगा। बता दें कि आईजीएमसी अपने आप में पहला अस्पताल है, जहां पर इस तरह की मशीन लगी है। शनिवार को इस थर्मल स्कैनर के लगने के बाद हर मरीज की स्कैनिंग सबसे पहले उस मशीन में हुई, उसके बाद ही वह अंदर आएं। आईजीएमसी में लगाई गई थर्मल स्कैनर मशीन सरकार या स्वास्थ्य विभाग  ने नहीं दी है। इसे सामाजिक संस्था ने अस्पताल को दान किया है। फिलहाल इस संकट की घड़ी में यह बहुत अच्छा कदम है कि अब कोरोना के इस संकट में स्कैनर के लिए   अलग से मशीन लगाई गई है। गौर हो कि शिमला के आईजीएमसी अस्पताल में सबसे ज्यादा मरीज अपने इलाज के लिए आते हैं।  अगर बात करें तो हर जिला से आईजीएमसी में ओपीडी में भी मरीजों की संख्या बढ़ गई है। इस वजह से मरीजों की थर्मल स्कैनिंग करना जरूरी है। बताया जा रहा है कि अगर किसी को बुखार , या खांसी हुई तो यह थर्मल स्कैनर  अलर्ट जारी करेंगा। अगर किसी को बुखार ज्यादा हुआ तो सीधे अस्पताल प्रशासन उसका टेस्ट लेगा। आईजीएमसी प्रशासन का दावा है कि इस मशीन के लगने के बाद लोग लापरवाही नहीं बरतेंगे, वहीं बाहर से आने वाले लोगों पर भी नजर रखी जा सकेंगी, ताकि कोरोना वायरस     के संक्रमण से बचा जा सकें।